दुर्गापुर अस्पताल में जिंदगी के लिए जंग लड़ रहे सूचित चक्रवर्ती को किसी मसीहे का इंतजार।


जनप्रतिनिधियों के अलावे आम लोगों से भी की मदद की गुहार।
फोटो : दुर्गापुर अस्पताल में भर्ती सचित चक्रवर्ती

सारठ : बीते दो दिसंबर को सारठ के एसबीआई शाखा के समीप एक ऑटो चालक ने  सारठ निवासी 55 वर्षीय सचित चक्रवर्ती को पीछे से धक्का मारकर गंभीर रूप से जख्मी कर दिया था और ऑटो चालक मौके पर से फरार हो गया था। हालांकि स्थानीय लोगों ने मानवता का परिचय देते हुए घायल सचित को सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र सारठ ले गया, जहां सीएचसी प्रभारी डॉ. जियाउल हक ने उनका प्राथमिक इलाज किया और स्थिति नाजुक देख उसे बेहतर इलाज के लिए देवघर रेफर कर दिया था। जिसके बाद परिजनों ने उसे देवघर के एक निजी नर्सिंग होम में भर्ती कराया, लेकिन वहां भी डॉक्टर  ने मरीज की गंभीर स्थिति को देखते हुए उन्हें बेहतर इलाज के लिए दुर्गापुर ले जाने की बात कही। जिसके बाद परिजनों ने बिना समय गंवाये उन्हें रात्रि में ही आइक्यू सिटी हॉस्पिटल दुर्गापुर (पश्चिम बंगाल) ले गया जहा डॉक्टर ने बताया कि दुर्घटना में सचित चक्रवर्ती के माथे में गहरा चोट है और ऑपरेशन करना पड़ेगा। बताया गया कि ईलाज में खर्च चार लाख होगा। ऐसे में उनके परिजनों के पास उतने पैसे नही है कि वो इलाज करा पाये। इसलिए उनके परिजनों ने दैनिक अखबारों के माध्यम से जनप्रतिनिधियों व आमलोगों से सूचित चक्रवर्ती के इलाज के लिए मदद करने की गुहार लगाई है।

No comments