पंचायत समिति सदस्यों ने डीसी व डीडीसी को पत्र लिखकर प्रमुख पर लगाया भेद-भाव का आरोप



सारठ : प्रखण्ड क्षेत्र के केराबांक पंचायत के पंचायत समिति सदस्य पवन मंडल, सधरिया के कृष्ण कुमार मंडल समेत सात पंसस ने देवघर उपायुक्त व उपविकास आयुक्त को ज्ञापन देकर 15 वीं वित्त आयोग द्वारा पंचायत समिति सदस्य के प्रदत्त मद में राशि की अनियमितता को लेकर एक आवेदन समर्पित किया है और निष्पक्ष जांच की मांग की है। दिये गये आवेदन में दर्शाया गया है की सारठ प्रखंड के पंचायत समिति सदस्यों को 15वीं वित्त आयोग द्वारा मिले फंड में काफी घपलेवाजी हुई है। वहीं बताया गया है कि सारठ प्रखंड में कुल 34 पंचायत समिति सदस्य हैं ।जबकि प्रमुख महोदया द्वारा कुछ सदस्यों को ही फंड निर्गत किया गया और मनमाने ढंग से दलालों द्वारा काम करवाया जा रहा है। ज्ञापन में उल्लेख है कि जनहित के विकास योजनाओं को लेक्ट किये गए कार्यो में प्रमुख द्वारा अधिकतर योजनाओं में शिलापट्ट भी नहीं लगवाया गया। वहीं कुछ जगह पर यदि शिलापट्ट लगाया भी गया तो उसमें प्राक्कलन राशि नहीं लिखी गयी और एक ही जगह दो-दो पीसीसी सड़क के सूचना पट्ट में पार्ट1 एवं पार्ट 2 लिखवा दिया गया है। जिसकी छाया प्रति भी पंचायत समिति सदस्यों द्वारा उपायुक्त को समर्पित किया है।

दिये गये ज्ञापन में पूरे कार्यों को बिना ग्राम सभा किये मनमाने ढंग से करने और प्राक्कलन की अनदेखी करने का आरोप है । जबकि बीते 19 नवंबर से प्रखंड विकास पदाधिकारी कोरोना संक्रमित होने पर छुट्टी पर चले गये थे और प्रमुख ने बिचौलियों से मिलीभगत करके अपने मन से अनुपयोगी योजनाओं को ले लिया। उपायुक्त से सभी पंचायत समिति सदस्यों को सभी के क्षेत्रों में कार्य दिलाने की अपील करते हुए निष्पक्ष जांच की मांग की गई है।

No comments