सारठ को पूर्ण अनुमंडल का दर्जा देने की मांग को लेकर संघर्ष समिति का धरना



सारठ:  पूर्व निर्धारित कार्यक्रम के तहत सारठ को पूर्ण अनुमंडल का दर्जा देने की मांग को लेकर सारठ संघर्ष समिति द्वारा सारठ मैन चौक स्थित बजरंगबली मंदिर के सामने धरना-प्रदर्शन किया गया। वहीं छह सूत्री मांगो का ज्ञापन मुख्यमंत्री के नाम बीडीओ साकेत कुमार सिन्हा को सोंपा गया। धरना को संबोधित करते हुए सारठ संघर्ष समिति के सदस्य सह राजद नेता सुरेंद्र रवानी ने कहा कि सारठ प्रखंड अनुमंडल बनने की कई अहर्ताओं को पूरा करता है। वर्तमान में बिजली, पीएचईडी, पुलिस आदि विभाग का अनुमंडल कार्यालय भी सारठ में है। ऐसे में अब सारठ को पूर्ण अनुमंडल का दर्जा मिलना ही चाहिए। वहीं धरना के माध्यम से सारठ सीएचसी को अनुमंडल स्तरीय अस्पताल का दर्जा देने के साथ डॉक्टरों की संख्या बढ़ाने, सिटी स्कैंन, अल्ट्रासाउंड, ईसीजी आदि सुविधाएं बहाल करने, आधुनिक लैब व पारा मेडिकल स्टाप की नियुक्ति करने की मांग को मुख्य मुद्दा बनाया गया है। बताया गया कि करीब दो लाख की आबादी को स्वास्थ्य सुविधा देने वाला सारठ सीएचसी में सुविधाओं का घोर अभाव है। वहीं संघर्ष समिति के सदस्यों द्वारा बताया गया कि मिल्क प्रोसेसिंग प्लांट के उद्घघाटन में आ रहे मुख्यमंत्री हेमन्त सोरेन को भी एक ज्ञापन सौंपा जाएगा। जिसमे 6 सूत्री मांगो का उल्लेख किया जाएगा। सभी मोर्चा के सदस्यों ने बैठक कर इस आंदोलन में आमजनों से भी भागीदारी निभाने की अपील की। धरना कार्यक्रम में शामिल लोग मांगो के स्लोगन लिखे तख्ती लेकर प्रदर्शन करते दिखे। बैठक में पवन कुमार विक्की, सुभाष मंडल, छोटू सिंह, निर्मल शर्मा, रिंकू गुप्ता, हीरो मिर्जा, दिलीप सोरेन, पिन्टू वर्मा, राजेन्द्र झा, मनोज झा, सुधीर वर्मा, शिमला मुखिया हितलाल रवानी, कांग्रेस नेत्री भवतारणी शर्मा समेत अन्य मौजूद थे।

No comments