तीन दिवसीय कपिल मुनि आश्रम वार्षिक उत्सव आज रविवार से हुआ आराभ



स्थानीय 52 बीघा स्थित सांख्य योग साधना पर केंद्रित कपिल मठ का तीन दिवसीय वार्षिकोत्सव  रविवार 19 दिसंबर से प्रारंभ होगा लेकिन कोरोना काल के कारण इस बार भव्य रुप से वार्षिकोत्सव नहीं मनाया जाएगा भक्तों के बीच खिचड़ी बुंदिया इत्यादि प्रसाद का भी वितरण नहीं किया जाएगा। वर्षिकोत्सव इस बार सादगी से मनाया जाएगा हालांकि उत्सव के पहले दिन सुबह स्वामी भास्कर आराण्य गुफा से बाहर निकल कर भक्तों को दर्शन देंगे जबकि वार्षिक उत्सव का मुख्यआयोजन 21 दिसंबर को होगा इस दिन पूजा हवन किया जाएगा बताया जाता है कि मधुपुर में इस मठ की स्थापना वर्ष 1927 में हुई थी सर्वप्रथम स्वामी हरिहरानंद आराण्य ने इस मठ के गुफा में तकरीबन 21 साल तक सांख्य योग साधना किया योग से जुड़ी अनेकों पुस्तकें लिखी उनके द्वारा लिखी गई पुस्तकें आज भी देश विदेश के 56 विश्वविद्यालय में छात्र-छात्राओं को पढ़ाई जाती है इसके बाद स्वामी धर्ममेघ आराण्य 39 वर्षों तक मठ परिसर स्थित गुफा में रहे उन्होंने भी सांख्य योग से संबंधित कई तथ्यों पर विचार करते हुए पुस्तकों को लिखा वर्तमान में स्वामी भास्कर आराण्य पिछले 33 वर्षों से गुफा में रहकर  मौन साधनारत है!

No comments