इलाज के अभाव में मूर्तिकार कार्तिक पंडित की हुई मौत



सारठ : प्रखंड के ग्राम-पंचायत  कचुवाबांक निवासी 55 वर्षीय मूर्तिकार कार्तिक पंडित की इलाज के अभाव में गुरुवार को मौत हो गई। मृतक पिछले एक वर्ष से किडनी रोग से ग्रसित था और वर्तमान में मिसराडीह गांव स्थित ससुराल में रहता था। मृतक की विधवा पत्नी अंजू देवी ने बताया कि एक वर्ष पूर्व अचानक उनके पति को पेट को लेकर परेशानी हुई थी, तभी उसे देवघर ले जाकर चिकित्सक से इलाज कराने पर एक किडनी संक्रमित होने की बात कही गई थी, उसके बाद उसका इलाज चल रहा था, लेकिन सुधार नहीं होने पर तत्कालीन कृषि मंत्री सह विधायक रणधीर सिंह के सहयोग से रांची के रिम्स में भर्ती कराया गया और इलाज चल रहा था। बताया गया कि छह माह बाद चिकित्सक द्वारा बताया गया कि दूसरा किडनी भी इफेक्टेड हो गया है। बताया कि मृतक घर का अकेला कमाने वाला था और हर पर्व-त्योहार में देवी-देवताओं की मूर्ति बनाकर बेचता था और उसी से घर परिवार चलता था, बताया कि घर में एक जवान बेटी है, दो छोटे-छोटे बच्चे हैं और कमाने वाला पति ही इस दुनिया से चल बसा। पत्नी रोते हुए बोल रही थी कि कैसे होगी बेटी की शादी, कौन संभालेगा हमारे दोनों बच्चों को, घर में अब कोई नहीं रहा। बताया कि पति के इलाज में घर में जो भी था सब खत्म हो गया, जमीन भी बिक गई और पति भी नहीं रहे। विधवा पत्नी ने स्थानीय विधायक से पति के क्रिया-कर्म के लिए आर्थिक सहयोग की भी अपील की है।

No comments