सोलर आधारित जल मीनार का ग्रामीणों को नहीं मिल रहा है लाभ




गोड्डा : जिले के प्रखंड क्षेत्र में विभिन्न पंचायतों में 14वें वित्त आयोग की राशि से निर्मित सोलर जल मीनार लगाया गया है, जो कुछ दिन तक चला इसके बाद  यूं ही खराब पड़ा है  मेहरमा प्रखंड क्षेत्र के घनकुडिया, बलबड्डा कंचनपुर साहिचक छम्मनकिता आदि कई गांव है जो बीते कई महीनों से जलमीनार खराब है। राज्य सरकार ने गांवों में सोलर आधारित जल मीनार का अधिष्ठापन कर लोगों की प्यास बुझाने की महत्वकांक्षी योजना को लागू किया लेकिन साल 2 साल के भीतर ही इस योजना की पोल खुलने लगी है 14 वित्त आयोग की राशि से आरंभ जलापूर्ति योजना की गुणवत्ता पर सवाल उठने लगे हैं। कई जगहों पर जल मीनार खराब हो गया है तो कुछ जगहों पर सोलर  काम करना बंद कर चुका है।अंदर में मशीन खराब होने का मुख्य कारण है महत्वाकांक्षी योजना मेहरमा प्रखंड क्षेत्र के कई पंचायतों में दम तोड़ती नजर आ रही है 14वें वित्त लगे सोलर जल मीनार अगर इसका उच्च स्तरीय जांच करा दी जाए तो सारे जल मीनार की पोल खोलती नजर आएगा सोलर जल मीनार विगत 4 महीने से खराब है इस कारण लोगों को पेयजल संकट का सामना करना पड़ रहा है। वहीं ग्रामीणो को पेयजल के लिए इधर उधर भटकना पड़ रहा है जब रास्ते से गुजर रहे थे तो कई गांव का जल मीनार खराब पड़ा हुआ था जब खराब जल मीनार के बारे में ग्रामीणों से पूछा तो उन्होंने कहा मुखिया को तो कई बार बोले लेकिन ठीक  नहीं करवाता है और न ही मुखिया आगे इसकी कोई आवेदन देते हैं। तो मुखिया को बोलना ही छोड़ दिए और कहा मुखिया को तो कई बार बोले लेकिन कोई ध्यान ही नहीं देता है हम लोग क्या करेंगे इधर उधर से पानी लाकर पीते हैं जल मीनार लगाने से कोई फायदा नहीं है इससे अच्छा तो पहले चापाकल ही ठीक था पानी अच्छा देता था जबसे चापाकल में यह जल मीनार लगाया है तब से चापाकल भी खराब हो गया है और जल मीनार भी खराब है सवाल तो अब यह साहब क्योंकि मुखिया जल मीनार ठीक करवाता ही नहीं और प्रखंड में बैठे प्रखंड विकास पदाधिकारी को जल मीनार के बारे में पता ही नहीं तो कैसे होगी ग्रामीणों की समस्या दूर गोड्डा प्रखंड मैं भी कई जल मीनार जस का तस पड़ा था जब इस मामले पर प्रखंड विकास पदाधिकारी से बात हुई तो उन्होंने कहा जांच कमेटी गठित कर जांच भी शुरू हो गई है हालांकि अब जांच के बाद ही पता चल पाएगा कि गलती किसकी है या इस जल मीनार लगाने में पैसे की बंदरबांट हुई है या फिर कोई कारण है।

No comments