पूर्व कृषि मंत्री के उद्घाटन के एक वर्ष बाद पुनः मुख्यमंत्री भी करेंगे डेयरी प्लांट का उद्घाटन






सारठ : सारठ प्रखंड मुख्यालय से सटे गोपीबांध गांव में 38 करोड़ की लागत से बने मिल्क प्रोसेसिंग प्लांट का दोबारा उद्घाटन आगामी 28 दिसंबर को मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन व कृषि मंत्री बादल पत्रलेख करेंगे। बताते चलें कि इसके पूर्व तत्कालीन कृषि मंत्री सह स्थानीय विधायक रंधीर सिंह ने गत वर्ष 24 अक्टूबर 2019 को प्लांट का उद्घाटन किया था। जबकि उद्घाटन होने के एक साल बीतने के बाद भी प्लांट का कार्य आधा-अधूरा ही है। अब जब मुख्यमंत्री व विभागीय मंत्री द्वारा प्लांट का उद्घाटन की तिथि तय की गई है तो विभाग के अधिकारी के पसीने छूट रहे है और प्लांट के शेष बचे अधूरे कार्य को जोर-शोर से पूरा किया जा रहा है। प्लांट के एक अधिकारी ने नाम नहीं छापने के शर्त पर बताया कि इस बार भी भले सीएम प्लांट का उद्घाटन कर देंगे, लेकिन प्लांट के चालू  होने में कम से कम तीन माह का समय लगेगा। अधिकारी अभी भी कई मशीन के नहीं आने और कई मशीन के इंस्टॉल नहीं होने की बात कही जा रही है। वहीं और भी तकनीकी खामियां होने की बात बताई जा रही हैं। 

चर्चाओं का बाजार गर्म : दो बार प्लांट का उद्घाटन को लेकर लोग तरह-तरह की चर्चा कर रहे है। लोगों का कहना है कि बिना कार्य पूरा किये प्लांट का उद्घाटन कर तत्कालीन कृषि मंत्री ने आम लोगों के साथ छलावा किया था। उद्घाटन के बाद भोले-भाले ग्रामीण व मजदूर समझ रहे थे कि उन्हें प्लांट से रोजगार मिलेगा। लेकिन ऐसा कुछ नहीं हुआ। वहीं इस बार राज्य के मुखिया भी आधे-अधूरे प्लांट का उद्घाटन करेंगे।

बिक गया 80 फीसदी गाय, कैसे चलेगा प्लांट : 50 हजार लीटर क्षमता वाले मिल्क प्रोसेसिंग प्लांट को चलाने के लिए सरकार ने गब्य विकास विभाग के तहत सारठ विधानसभा क्षेत्र में लगभग 6000 बीपीएल महिलाओं के बीच 90 फीसदी अनुदान पर दुधारू गाय का वितरण किया था। लेकिन वर्तमान समय मे 80 फीसदी गाय लाभुकों ने या तो बेच दिया या फिर उनकी मौत हो गई। इधर उपायुक्त ने पंचायत स्तर पर टीम गठन किया है और टीम को लाभुकों के घर-घर जाकर भौतिक सत्यापन कर रिपॉर्ट करने का निर्देश दिया है। अब सवाल उठता है कि जब अधिकांश गाय बिक गया तो फिर प्लांट का उद्देश्य कैसे पूरा होगा।, वहीं प्लांट बनने से विस्थापित हुए परिवार को अभी तक प्लांट में रोजगार नहीं देने से भी स्थानीय लोगों में विभाग के रवैये को लेकर आक्रोश देखा जा रहा है।

No comments