कृषि कानून के विरोध में सीपीआई अखिल भारतीय किसान सभा ने किया उपवास कार्यक्रम



नाला (जामताड़ा)---पूर्व निर्धारित कार्यक्रम के अनुसार सोमवार को नाला प्रखंड मुख्यालय के समक्ष भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी अखिल भारतीय किसान सभा की ओर से एक दिवसीय उपवास सह धरना कार्यक्रम का आयोजन किया गया। कार्यक्रम की अध्यक्षता कामरेड विमल कांत घोष ने की। इस अवसर पर सभी वक्ताओं ने केंद्र सरकार द्वारा पारित कृषि बिल को तीन काला कानून मानते हुए सरकार विरोधी नारे लगाए उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार द्वारा किसान विरोधी काला कानून को जब तक वापस नहीं लेती है तब तक आंदोलन और उग्र किया जाएगा। जिला सचिव कान्हाई माल पहाड़िया ने भाजपानीत केंद्र सरकार  द्वारा पारित किए गए कृषि कानून को किसानों का अभिशाप करार घोषित दिया ।उन्होंने कहा कि यह तीन काला कानून किसानों के हित में नहीं है। उन्होंने यह भी कहा कि भाजपा नीत केंद्र सरकार कारपोरेट घराने के इशारे पर कार्य कर रही है ,इसे गरीब, मजदूर ,किसान वर्ग से कोई लेना -देना नहीं है। कहा कि पूंजीपतियों की यह सरकार सर्वदा पूंजीपतियों को लाभ पहुंचाने के ख्याल से सभी योजनाएं एवं नियमों को पारित करती है। कहा की गरीब ,मजदूर ,किसानों पर हो रहे अत्याचार को कतई बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। आज दिल्ली में किसान अपने हक और हुकूक की मांग को लेकर धरने पर बैठे हैं परंतु सरकार के कानों तक जूं नही रेंगती। आज के इस एक दिवसीय उपवास धरना कार्यक्रम में मुख्य रूप से जिला सचिव कन्हाई माल पहाड़िया, प्रमुख जियाराम हेंब्रम, अखिल भारतीय नौजवान संघ के राज्य अध्यक्ष गौतम कुमार खां, तुषार कांति मंडल,अंचल सचिव काली पद राय, आयन चंद्रमा जी मृत्युंजय तिवारी ,उत्तम कुमार मंडल, मिहिर मंडल ,स्वपन बाउरी, चंचल घोष, इंद्रजीत मंडल, दीपक मंडल, चंदन बेसरा, विश्वजीत माल ,सुदाम घोष, साधन घोष, सकाल मुर्मू ,चंदन बेसरा सहित पार्टी के अन्य पदाधिकारी एवं कॉमरेड मौजूद थे।

No comments