राजेन्द्र बाबू की प्रतिमा पर माल्यार्पण कर मनाई गई 136वीं जयंती







मधुपुर:गुरुवार को शहर के डालमिया कूप स्थित देश के प्रथम राष्ट्रपति डॉ.राजेंद्र प्रसाद प्रतिमा पर माल्यार्पण कर श्रद्धासुमन अर्पित करते हुए जयंती धूमधाम से मनाई गई। इस दौरान डॉ.राजेंद्र प्रसाद के बताए गए रास्ते पर चलने का संकल्प भी लिया।इस मौके पर मधुपुर नगर कांग्रेस कमेटी के द्वारा अध्यक्ष श्याम के नेतृत्व में स्वतंत्र भारत के प्रथम राष्ट्रपति भारत रत्न डॉ राजेंद्र प्रसाद जी की 127 वी जयंती मनाई गई कार्यकर्ताओं ने उनकी प्रतिमा पर माल्यार्पण किया वही शिक्षाविद पंकज पीयूष ने देश के प्रथम राष्ट्रपति के व्यक्तित्व पर विस्तार से प्रकाश डाला।उन्होंने बताया कि वर्ष 1931 के नमक सत्याग्रह और 1941 के भारत छोड़ो आंदोलन के दौरान उन्हें कई बार जेल की यातनाएं झेलनी पड़ी। राजेन्द्र बाबू का सादा जीवन उच्च विचार लोगों के लिए प्रेरणादायक साबित होता रहा।डॉ.राजेन्द्र प्रसाद संविधान सभा के अध्यक्ष के रूप में सामाजिक प्रगति के प्रतीक राजेन्द्र बाबू संविधान के मूल अधिकार, मूल कर्तव्य राज्य के नीति निदेशक और गरीबों के उत्थान के प्रति सदैव चिंतित रहा करते थे।इस मौके पर कांग्रेस के नगर अध्यक्ष मोहम्मद श्याम, नेता ,कांग्रेस नेता गोल्डी मोती साह,  दीपक पंडित,  राहुल मोदी,  मार्गो मुंडा प्रखंड अध्यक्ष जयशंकर चरण कैलाश रजक दीनबंधु भैया, अमर शर्मा, सरजू दास,  मोकिम शेख, निजाम शेख युगल यादव,आनंद चौरसिया, अंकित शरण आदि मौजूद थे!

No comments