सारवां, मधुपुर, मार्गोमुंडा, पाथरोल, पालोजोरी व खागा थाना से 11 साइबर अपराधी गिरफ्तारमोबाइल, सिमकार्ड, एटीएम कार्ड, बैंक पासबुक, चेकबुक, लैपटॉप, दोपहिया व चारपहिया वाहन समेत नगदी बरामद

एसपी ने सारठ थाने में प्रेसवार्ता में दी जानकारी

फोटो : प्रेसवार्ता करते एसपी व अन्य
सारठ : जिले में साइबर अपराध पर अंकुश लगाने के लिए पुलिस द्वारा विशेष मुहिम चलाई जा रही है और ढाई सौ से अधिक साइबर अपराधी को जेल भेजा जा चुका है। उक्त बातें एसपी अश्विनी कुमार सिन्हा ने सारठ थाने में पत्रकार वार्ता के दौरान पत्रकारों से कही। एसपी द्वारा बताया कि गुप्त सूचना के आधार पर दो टीमो के द्वारा बीते मंगलवार को दिन-रात छापेमारी करके जिले के विभिन्न थाना क्षेत्र के विभिन्न गांवों से 11 साइबर अपराधियों की गिरफ्तारी की गई है। जिसमें सारवां थाना क्षेत्र के बघमारी गांव से 3 लुलवाडीह से 2, पाथरोल थाना के संथाली सिमरा गांव से 1, मारगोमुण्डा थाना के चेतनारी गांव से 1, खागा थाना के कांकी-परसनी गांव से 1, पालाजोरी थाना के ब्रमसोली गांव से 1, असना गांव से 1 और दुमका जिला के जरमुंडी  थाना के हतनवा गांव से 1 साइबर अपराधी को गिरफ्तार किया गया है। वहीं गिरफ्तार साइबर अपराधियों से 25 मोबाइल, 34 सिम, 15 एटीएम कार्ड, 16 बैंक पासबुक, 1चेकबुक, 2 लैपटॉप, 3 मोटरसाइकिल, 2 चारपहिया वाहन ( 1 स्कार्पियो और 1 टियागो) एवं नगद एक लाख एकसठ हजार रुपये भी बरामद हुए हैं। बताते चलें कि गिरफ्तार साइबर अपराधियों में बाघमारी गांव से दो सगे भाई मो. शमशेर अंसारी उम्र करीब (25) वर्ष व मकसूद अंसारी (22) और अजमत अंसारी (20), ललुवाडीह गांव से दो सगे भाई जमरुदीन अंसारी (21) व मुशरफ अंसारी (19 ), संथाली-सिमरा गांव के मोहसिन अंसारी (23), चेतनारी गांव के इसराफुल अंसारी (20), कांकी-परसनी गांव के अब्दुल कलाम (21), ब्रमशोली गांव के मिराज अंसारी (20), असना गांव के पवन दत्ता 22 और जरमुंडी थाना के हतनवा गांव के मो. इरशाद ( 25) शामिल है।बताया गया कि सभी साइबर अपराध में संलिप्त है। वहीं प्रेस वार्ता में एसपी ने बताया कि पवन दत्ता पूर्व में भी साइबर अपराध में जेल जा चुका है। एसपी ने कहा कि उनके जिले में योगदान के तीन महीने के दौरान एक अभियान के तहत 260 साइबर अपराधियों की गिरफ्तारी हुई है। वहीं 1400 मोबाइल और सिम कार्ड, करीब 22 लाख रुपये नगदी, एक दर्जन चारपहिया वाहन सहित कई दोपहिया वाहन, लैपटॉप, बैंक पासबुक आदि की बरामदगी की गई है। बताया कि पुलिस की इस मुहिम से साइबर अपराधियों में दहशत का माहौल कायम है और अपराधी जिला छोड़ने के लिए मजबूर हो गये है। वहीं पुलिस कप्तान ने प्रेस वार्ता से पहले सारठ थाना का निरीक्षण भी किया।जिसमें 3 वर्ष से लंबित कांडों को डिस्पोजल करने का निर्देश दिया तथा थाना सिरिस्ता को संधारण व अद्यतन की जानकारी ली। बताया कि सारठ पुलिस अनुमण्डल के सभी थाने में नवनियुक्त थाना प्रभारियों से ऑफिसियल कार्यो की जनकारी ली गई और आवश्यक दिशा-निर्देश दिया गया। वहीं सभी पुलिस पदाधिकारी को साफ-सफाई पर भी विशेष ध्यान देने का निर्देश दिया गया। एसपी ने बताया कि मेरे पदभार के उपरांत बारह सौ लंबित मामलों को निष्पादित किया गया है। बताया गया कि पूर्व में जिले के सभी थानों में कुल 5300 के आसपास कांड दर्ज थे, वर्तमान में 4100 कांड शेष बचे हुए हैं, जिसका निष्पादन को लेकर निर्देश दिया गया है। कहा कि जल्द ही सभी कांडों का निष्पादन कर दिया जाएगा। मौके पर साइबर डीएसपी मंगल सिंह जमुदा, सारठ अनुमण्डल पुलिस पदाधिकारी आमोद नारायन सिंह, प्रशिक्षु आईपीएस सह सारठ थाना प्रभारी कपिल चौधरी, साइबर थाना देवघर के थाना प्रभारी सह इंस्पेक्टर संगीता कुमारी सहित अन्य पदाधिकारी और पुलिस बल मौजूद थे

No comments