धान अधिप्राप्ति को लेकर उपायुक्त ने अधिकारियों को दिये आवश्यक दिशा-निर्देश



उपायुक्त-सह-जिला दण्डाधिकारी  मंजूनाथ भजंत्री की अध्यक्षता में खरीफ विपणन मौसम 2020-21 में धान अधिप्राप्ति हेतु जिला अनुश्रवण समिति की बैठक समाहरणालय सभागार में आयोजित की गयी। इस दौरान उपायुक्त ने संबंधित अधिकारियों व संस्थानों को किसानों की हर संभव सहयोग मुहैया कराने का निदेश दिया गया, ताकि किसान मित्रों को किसी प्रकार की सामना न करना पड़े।

इसके अलावे समीक्षा के क्रम में उपायुक्त ने किसानों के भुगतान को लेकर चर्चा करते हुए संबंधित अधिकारियों को निदेशित करते हुए कहा कि किसानों को नियत समय के भीतर सरकार द्वारा निर्धारित उचित मूल्य दिया मिले इसका पूरा ख्याल रखें। उन्होंने नियमावली के अनुसार निबंधित जिले के किसानों से ही धान क्रय करने, राइस मिल का जायजा लेने, इसके निबंधन का निर्देश उपस्थित पदाधिकारियों को दिया। बैठक के दौरान उपायुक्त ने कहा कि पदाधिकारी यह सुनिश्चित करें कि किसी भी परिस्थिति में किसानों को गोदाम भरा होने की स्थिति में लोड किए हुए अनाज को लेकर वापस ना जाना पड़े। गोदामों में कितनी जगह है इसकी सूचना ठीक प्रकार से संबंधित पदाधिकारियों को दें, ताकि किसानों को गोदाम खाली होने तक सूचित करते हुए ऐसी परिस्थितियों से बचा जा सके। उपायुक्त ने जिला कृषि पदाधिकारी को निर्देश दिया कि वे किसानों को विक्रय के समय किन दस्तावेजों को लेकर जाना है इसका प्रचार- प्रसार कृषक मित्र समेत अन्य के माध्यमों से करवाना सुनिश्चित करें। साथ हीं किसानों को धान विक्रय हेतु पहले निबंधित मोबाइल नंबर पर एसएमएस प्राप्त हो यह सुनिश्चित करें तथा उसमें धान बेचने की तिथि निर्धारित करें। किसान उक्त तिथि को क्रय केंद्र में धान बेच सकते हैं। साथ में राशि भुगतान हेतु बैंक पासबुक एवं आधार कार्ड की छाया प्रति क्रय प्रभारी को उपलब्ध कराएंगे जिसके उपरांत उन्हें भुगतान किया जा सके। 

इस दौरान उपायुक्त द्वारा जानकारी दी गई पिछले वित्तिय वर्ष में कुल 13 धान अधिप्राप्ति केंद्र थे जिनके माध्यम से किसानों द्वारा जिले में धान उपलब्ध कराया गया था। आगे उन्होंने बतलाया कि वर्तमान में कुल 18 पैक्स का प्रस्ताव आया है जिसके संबंध में उपायुक्त द्वारा जिला सहकारिता पदाधिकारी को निदेशित किया गया कि प्रखंडवार आवश्यकताओं का आकलन करते हुए एवं उनके टैगिंग का कार्य कराते हुए सूची जिला में संबंधित कार्यलय को उपलब्ध कराए। जिला स्तर से धान अधिप्राप्ति केंद्रों का चयन किया जाएगा साथ ही चयन में इस बात का भी ख्याल रखा जाय कि किसानों को केंद्र से टैग करते वक्त ज्यादा दूरी तय ना करना पड़े। इसके अलावे उपायुक्त द्वारा जानकारी दी गई कि जिले में 15 नवंबर 2020 से नए किसानों के निबंधन का कार्य प्रारंभ किया गया है। साथ ही निबंधित किसानों की सूची जिला कृषि पदाधिकारी को उपलब्ध कराने तथा प्रखंड तकनीकी प्रबंधक एवं सहायक तकनीकी प्रबंधक (BTM/ATM) की सहायता से निबंधित किसानों की सूची का भौतिक सत्यापन कराने का निदेश दिया गया। 

इसके अलावे उपायुक्त श्री मंजूनाथ भजंत्री द्वारा जिला सहकारिता पदाधिकारी को निदेश दिया कि जिले के गोदामों की क्षमता, भवन की स्थिति आदि का भौतिक निरीक्षण कर फोटोग्राप्स के साथ रिपोर्ट्स तैयार कर जिला में संबंधित कार्यालय को उपलब्ध कराए। उपायुक्त द्वारा धान अधिप्राप्ति से सबंधित जितने भी मिलो को टैग किया गया है पूर्व में उनके द्वारा धन उठाव के किये गए कार्यो के भुगतान के संबंध में जिला प्रबंधक राज्य खाद्य निगम एवं प्रबंधक इज ऑफ डूइंग बिजनेस जिला उद्योग केंद्र को निदेश दिया कि मिल मालिकों के साथ समन्वय करते हुए जल्द से जल्द भुगतान कराए। 

बैठक में उपरोक्त के अलावे उप विकास आयुक्त  संजय सिन्हा, प्रशिक्षु आई0ए0एस0 संदीप मीणा, अपर समाहर्ता  चन्द्र भूषण प्रसाद सिंह, महाप्रबंधक जिला उद्योग केन्द्र, जिला आपूर्ति पदाधिकारी विशाल दीप खलखो, जिला प्रबंधक राज्य खाद्य आपूर्ति, जिला कृषि पदाधिकारी, जिला सहकारिता पदाधिकारी, सहायक जनसम्पर्क पदाधिकारी रोहित कुमार विद्यार्थी, क्षेत्रीय पदाधिकारी प्रदूषण नियंत्रण परिसर, एफसीआई के प्रतिनिधि, सभी मिल्स व पैकस के प्रतिनिधि आदि उपस्थित थे।

No comments