गोड्डा राष्ट्रीय बजरंग दल के द्वारा सीएम के आदेश को वापस लेने के लिए किया सीएम का पुतला दहन



गोड्डा स्थानीय करगील चौक पर  राष्ट्रीय बजरंगदल के द्वारा मंगलवार की शाम में  CM हेमंत सोरेन का किया गया पुतला दहन।युवा कार्यरकर्ता के द्वारा  सीएम के छठ पर्व पे  कोविड-19 सोशल डिस्टेंस का पालन करे इस को लेकर बजरंग दल पुर जोर विरोध किया गया।जिला मंत्री ने कहा कि  बार बार हिन्दुओ के धर्म पर ही कियो प्रहार किया जा रहा हैं। छठ पूजा को लेकर हेमंत सरकार और जिला प्रशासन ने तानाशाही तुगलकी फरमान जारी कर छठव्रतियों और हिन्दू धर्म के महापर्व छठ में घाट पर नहीं जाने देने का फरमान दुर्भाग्यपूर्ण हैं। इसकी जितनी निंदा करे वो कम है। और कहे कि हेमंत सोरेन की सरकार व कांग्रेस पार्टी ने बीते दिनों उपचुनाव के प्रचार प्रसार में सामाजिक व शारीरिक दूरी को अनदेखा करके अपनी राजनीति साधने व कुर्सी के मोह में जनता की परवाह नही करते हुए। बड़ी बड़ी चुनावी सभाएं व पार्टीयों के नाम पर भीड़ इकठ्ठा होने दिया। तब झारखंड सरकार द्वारा यह बात नही कही गई कि जनता में कोरोना फैल जाएगा। वहीं दूसरी ओर हेमंत सरकार ने अपने सहयोगी कांग्रेस की हिन्दू विरोधी विचारधारा से हिन्दुओ की आस्था के महापर्व छठ पूजा में अपनी तानाशाही गाइडलाइंस सह तुगलकी में नदी घाटों पे न जाने को लेकर हिंदु आस्था पे चोट पहुंचाने का कार्य किया है। हेमंतजी का जबरन आदेश हिन्दू विरोधी नियति को प्रदर्शित करता है। आस्था के महापर्व में घरों से अर्घ्य देना सभी छठव्रतियों के लिए संभव नही है। जबकि छठ में छठव्रतियों द्वारा नदी घाटों पर सूर्य की आराधना करते समय शारीरिक दूरी का पालन सदियों से चली आ रही है। छठपर्व शुद्धता एवं पवित्रा के लिए विश्व विख्यात हैं। उसपर तानाशाही नीतियों द्वारा छठ पूजा को लेकर छठघाटों पर अर्घ्य नही देने व नदी, तालाब,झरनों पर जाने से रोक लगाने का आदेश जारी कर झारखंड के हिंदूओ के भावनाओं को आहत करने का काम किया है। मौके पर विभाग अध्यक्ष चंदन तिवारी, जिला अध्यक्ष जतिन भरद्वाज,जिला उपाध्यक्ष अमन गुप्ता, नगर मंत्री हरीश महतो, अभिषेक, राहुल, प्रताप, प्रवीण, अक्षय, रितेश, राकेश एवम् सेकड़ो दर्जनों कार्यकर्ता मौजूद थे

No comments