रोजगार के लिए गुजरात पलायन कर रहे युवा


फोटो : गुजरात से आयी बस में सवार होते युवा
सारठ : एक तरफ देश के विभिन्न राज्यों में फिर से बढ़ते कोरोना को लेकर राज्य सरकार लोगों को सतर्कता बरतने, चेहरे पर मास्क लगाने और शारीरिक दूरी का पालन करने की हिदायत दे रही है, वहीं दूसरी तरफ प्रखंड क्षेत्र के दर्जनों युवा काम के लिए गुजरात पलायन कर रहे हैं। रविवार शाम को सारठ चोक पर गुजरात से आई वाहन से दर्जनों लोग गुजरात जा रहे थे। मीडिया द्वारा पूछताछ करने पर युवाओं द्वारा बताया कि वे लोग सभी प्रखंड क्षेत्र के बामनगामा, कुकराहा, उबिया, बांधडीह, पिपरासोल, ठाढ़ी आदि गांव के है। सभी गुजरात के अहमदाबाद स्थित धागा प्लांट में काम करने जा रहे है। युवाओं ने कहा कि वे लोग लॉकडाउन के दौरान घर आये थे। आठ माह तक घर मे रहे। इस बीच कहीं कोई काम नहीं मिलने से स्थिति बद से बदतर हो गई। एक-एक पैसा को मोहताज हो गए। राज्य सरकार, स्थानीय प्रतिनिधि, प्रशासन सबों ने कहा था कि प्रवासी मजदूरों को रोजगार मिलेगा। लेकिन ऐसा कुछ नहीं हुआ। मजदूरों से जब पूछा गया कि कोविड 19 का प्रभाव अन्य राज्यो में है जिस पर युवकों ने कहा कि कोरोना का तो डर है लेकिन पेट की भूख के सामने कुछ बस नही चलता है। अगर यहां रोजगार मिलती तो बाहर कभी नहीं जाते। मजबूरी बस सब करना पड़ता है। मजदूर पंकज सिंह, मंटू राव, बुधन महतो, गिरधारी मंडल, सुकर महतो, पप्पू कुमार समेत अन्य ने कहा कि उनलोगों के अन्य प्रदेश जाने से परिजनों में भी दुख है। लेकिन क्या करें कोई उपाय भी नहीं है।

No comments