उप विकास आयुक्त ने किया देवघर व देवीपुर प्रखंड का निरीक्षण



देवघर गुरुवार को उप विकास आयुक्त  संजय सिन्हा के द्वारा देवघर एवं देवीपुर प्रखण्ड अंतर्गत विभिन्न जनकल्याणकारी एवं विकास योजनाओं की अद्यतन स्थिति का निरीक्षण किया गया। इस दौरान उन्होंने NEEDS , देवघर द्वारा NABARD - RIDF परियोजना के तहत् देवघर एवं देवीपुर प्रखण्ड में चल रहे जलछाजन परियोजना अन्तर्गत किये जा रहे कार्यों का निरीक्षण करते हुए संबंधित अधिकारियों को मिशन मोड में कार्य करने का आवश्यक व उचित दिशा निर्देश दिया गया।

निरीक्षण के क्रम में उप विकास आयुक्त ने देवघर प्रखण्ड के राजाडीह , पिछडीबाद एवं देवीपुर प्रखण्ड अन्तर्गत पहाडपुर ग्राम में किये गये तालाब निर्माण, डोभा निर्माण , water Absorption Trench ( WAT ) , Trench Cum Bund ( TCB ) , Loose Boulder Structure ( LBS) आदि योजनाओं का निरिक्षण करते हुए संबंधित अधिकारियों व कर्मियों को निर्देशित किया कि प्राक्कलन में निहित प्रावधानों के अनुसार कार्यों का सम्पादन करें , ताकि ग्रामीणों को अधिक से अधिक लाभ मिल सके। इसके अलावे निरीक्षण के क्रम में ग्राम- राजाडीह में भीमाधर सिंह के जमीन पर निर्मित WAT योजना में मेड की मिट्टी का Dressing नहीं किया गया है, मानक के अनुरुप Equiliser नहीं छोड़ा गया है, साथ ही योजना के निर्माण के समय जमीन के slope का भी ध्यान नहीं रखा गया है। भूमि एवं जल संरक्षण के उददेश्य से निर्मित WAT योजना का शत् प्रतिशत लाभ ग्रामीणों को नहीं मिल पा रहा है इस पर नाराजगी व्यक्त करते हुए संबंधित कर्मियों को फटकार लगाते हुए इसमें आवश्यक सुधार करने का निर्देश दिया गया।

इसके अलावे उन्होंने ग्राम- राजाडीह में भीमाधर सिंह एवं ग्राम- बिसुचक के बासुकी चौधरी तालाब निर्माण योजना के निरीक्षण में पाया कि सही समय पर Grass Pitching का कार्य नहीं कराने से सभी Grass सुख गया है तथा Grass Pitching का कोई औचित्य नहीं रह गया हैं। इसपर नाराजगी व्यक्त करते हुए उप विकास आयुक्त ने इसमें आवश्यक सुधार करने का निर्देश संबंधित अधिकारियों को दिया। साथ ही ग्राम - पिछड़ीवाद में निर्माणाधीन WAT योजना के निरीक्षण में पाया गया कि मानक के अनुरुप Equiliser नहीं छोड़ा गया है तथा मिट्टी का Dressing भी नहीं किया गया है, ऐसी स्थिति को देखते हुये उप विकस आयुक्त ने संबंधित अधिकारियो को निदेशित किया कि योजना के निर्माण के समय ही मेढ की मिट्टी का Dressing कराना सुनिश्चित किया जाय। इसके साथ ही निरीक्षण के समय उपस्थित कृषि स्थायी समिति के सदस्यों को निदेशित किया गया कि किसानों को प्रेरित करते हुए निर्मित परिसम्मतियों का उपयोग कर कृषि को बढ़ावा दिया जाय, जिससे किसानों की आमदनी बढ़ाया सके।

इस दौरान उपरोक्त के अलावे परियोजना पदाधिकारी विशम्भर पटेल, संबंधित विभाग के अधिकारी एवं नीड्स देवघर के कर्मी आदि उपस्थित थे।

No comments