राहुल अध्ययन केंद्र के द्वारा भारत रतन डॉक्टर ए पी जी जी पी जी जी अब्दुल कलाम की बनाई गई जयंती जयंती



मधुपुर 15 अक्टूबर राहुल अध्ययन केन्द्र में भारत रत्न डां0 ए पी जे अब्दुल कलाम की जयन्ती व  निराला की पुण्यतिथी पर याद किये गये । मौके पर दोनो विभूतियों की तस्वीर पर माल्यार्पण कर श्रद्धासुमन अर्पित किया गया । मौके पर केन्द्र के संरक्षक व कलमकार धनंजय प्रसाद ने दोनो विभूतियों पर विस्तार पूर्वक चर्चा की । उन्होनें कहा कि भारत रत्न डाँ0 कलाम एक कामगार परिवार में जन्म लिये और अपने मेहनत और लगन के बल पर शिखर पर पहुंचकर देश का नाम दूनियां में फैलाये । वे मिसाइल मैन के रुप में जाने जाते है । उन्होनें परमाणु शस्त्र के क्षेत्र में भारत को आत्मनिर्भर बनाया । एक वैज्ञानिक होने के वावजूद भी उन्हें साहित्य , संगीत व बच्चों से बहुत लगाव था । उन्हें कई सम्मान सहित भारत रत्न के सम्मान से नबाजे गये और देश के सर्वोच्य पद राष्ट्पति के पद पर सुशोभित किये । उन्होने कहा कि निराला जी छायावाद के एक स्तंभ थे । उन्होने नयी कविता की शुरुआत किया । छंदमुक्त कविता उन्हीं की देन है । वे प्रगतिशील कवियों में महत्वपूर्ण स्थान रखते थे । इसके अलावे अन्य लोगों ने भी अपने विचार रखे!

No comments