मनरेगा कर्मचारियों के तय समझौते का संकल्प जारी किया जाए



देवघर शुक्रवार को झारखंड राज्य अनुबंध कर्मचारी महासंघ के प्रदेश उपाध्यक्ष  महेश सोरेन ने माननीय मुख्यमंत्री झारखंड सरकार एवं माननीय ग्रामीण विकास मंत्री झारखंड सरकार को एक पत्र  सोपा जिसमें विगत दिनों मनरेगा कर्मचारियों के हड़ताल के दौरान हुए समझौते का संकल्प नियत समय पर जारी करने की मांग की गई। इसके अलावा पत्र में यह जिक्र किया गया कि दिनांक10.8.2020 को हम लोगों का सरकार के साथ द्विपक्षीय वार्ता कर हड़ताल को स्थगित कराया गया था तथा वार्ता में बनी सहमति का एक से सवा महीना मैं संकल्प जारी करने की बात बताई गई थी साथ ही कोरोना वायरस की महामारी को देखते हुए मनरेगा कर्मियों का हड़ताल अवधि का मानदेय देने की भी बात माननीय मंत्री एवं माननीय विधायक श्री सूक्त सोनू जी ने देने की सहमति दी थी लेकिन ग्रामीण विकास विभाग के उच्चाधिकारियों द्वारा हड़ताल अवधि का मानदेय नहीं देने की बात को प्रमुखता से अखबार में प्रकाशित कर मनरेगा कर्मचारियों को उकसाने का प्रयास किया है इससे सरकार एवं कर्मियों के बीच दरार की स्थिति बन रही है हड़ताल स्थगित होने के बाद विभागीय अधिकारियों द्वारा आनावश्यक  कार्य का दबाव दिया जा रहा है साथ ही  राजकीय शोक एवं राष्ट्रीय शोक के दिनों में भी कार्य करने का अनावश्यक दबाब देकर परेशान किया जा रहा है एवं उस दिन भी उनके द्वारा उस पुण्य आत्मा को अपमानित किया गया है अवकाश एवं पर्व त्योहार के मौसम में कुछ प्रखंड केंद्रीय कर्मचारियों का मानदेय को होल्ड कर पर रखा गया है जबकि प्रखंड स्तर पर मनरेगा का कनटीजेंसी का दुरुपयोग धड़ल्ले से किया जा रहा है। एक तरफ हड़ताल मुख्यमंत्री के निर्देशानुसार सहानुभूति पूर्वक समझौते से तोड़ा गया वही हड़ताल समाप्ति के तुरंत बाद मनरेगा आयुक्त के द्वारा मानव दिवस  सृजन को लेकर अनावश्यक दबाव मनरेगा अधिनियम के विरुद्ध करना शुरू कर दिया गया इससे मनरेगा कर्मचारियों का सरकार के प्रति असंतोष गहराते जा रहा है  और उनके द्वारा संघ और सरकार के बीच असंतोष की स्थिति पैदा करने का काम किया जा रहा है इससे सरकार को समझने की आवश्यकता है।

 की गई वार्ता  तय सीमा जो एक से सवा महीना पूर्ण होने में मात्र अब सप्ताह  भर का समय शेष रह गया है और कृत कार्यवाही का दूर-दूर तक कहीं पता नहीं चल रहा है इसलिए श्री सोरेन ने पत्र के माध्यम से आग्रह किया है कि वार्ता के समय बनी सहमति का संकल्प जारी कराने की कृपा करें साथ ही मनरेगा कर्मचारियों में जो विरोधाभास की स्थिति बन रही है उसे दूर किया जाए।

No comments