पुलिस संस्मरण दिवस पर याद किये गए शहीद



साहिबगंज: पुलिस संस्मरण दिवस पर बुधवार को पुलिस लाइन मैदान में शहीदों को याद कर उन्हें श्रद्धांजलि व सलामी दी गई। पुलिस अधीक्षक अनुरंजन किस्पोट्टा के नेतृत्व में बलिवेदी पर श्रद्धासुमन व शहीदों की तस्वीरों पर माल्यार्पण किया गया। तत्पश्चात सलामी देकर व 2 मिनट का मौन रख कर शहीदों को याद किया गया। एसपी अनुरंजन किस्पोट्टा ने कहा कि  झारखंड सहित पूरे देश में पुलिस संरक्षण दिवस मनाया जा रहा है। इस अवसर पर हमारे साथी जो अपने कर्तव्य पालन के दौरान अपनी जान की परवाह किए बिना कर्तव्य स्थल पर शहीद हुए हैं। आज हम सब उन्हें स्मरण कर नमन करते हैं। वर्ष 2019 से 2020 में भारत में कुल 264 पुलिस एवं अर्धसैनिक बलों के पदाधिकारी व जवान शहीद हुए। जिसमें झारखंड के सहायक अवर निरीक्षक सुकरा उरांव, सहायक अवर निरीक्षक चंद्राय सोरेन, आरक्षी खंजन कुमार महतो, अखिलेश राम, लखिन्द्र मुंडा, होमगार्ड जमुना प्रसाद, सकिन्द्र सिंह, शंभू प्रसाद साहू शामिल हैं। पुलिस अधीक्षक ने कहा कि पुलिस की नौकरी शुरुआत से ही कर्तव्य के प्रति ईमानदारी पूर्वक निर्वाह करने के साथ-साथ इस देश की मिट्टी पर कुर्बान होने का जज्बा हम सभी पुलिसकर्मी के पौरुष को परिभाषित करती है। जिसका पूरे कर्तव्य काल में हम सभी पुलिसकर्मी ईमानदारी से पालन करने की कोशिश करते हैं। कर्तव्य पालन के दौरान शहीद होने का सौभाग्य बहुत कम साथियों को प्राप्त होता है। किंतु जब भी कर्तव्य की बलिवेदी पर अपनी जान निछावर करने का अवसर मिला है, हम सभी पुलिसकर्मी कभी पीछे नहीं रहते हैं। बल्कि आगे बढ़कर अपनी टुकड़ी का नेतृत्व करते हैं और वीरता का परिचय देना पसंद करते हैं। आज इस संस्मरण दिवस के अवसर पर इस मंच से मैं आप सबों का आह्वान करना चाहूंगा कि जो रास्ते जो लकीरें हमारे साथियों ने करतब की बलिवेदी पर शहीद होकर हम सबों के सामने खींची है, हम उस लकीर को कभी मिटने धूमिल होने नहीं देंगे। उनकी यादों को अपने दिल में रखेंगे। पुलिस अधीक्षक ने ज़िले के शहीदों के परिजनों का अभिवादन व सम्मान करते हुए कहा कि जब भी उनके लायक कोई सेवा हो उन्हें निसंकोच बताएं। पुलिस परिवार सभी का भरपूर सहयोग करने की कोशिश करेगा। इधर ज़िले के सभी थानों में संस्मरण दिवस मनाते हुए शहीद पुलिस कर्मियों को श्रद्धांजलि दी गयी।



              वही स्मरण दिवस  पर  शहीदों को  नम आंखों से याद करते हुए  बताया कि शाहिद आरक्षी स्वर्गीय कैलाश प्रसाद यादव, पत्नी कापूरी देवी, पता पुलिस लाइन केंद्र, साहिबगंज जो दिनांक 7 मई 2004 को टाटा हटिया पठानकोट एक्सप्रेस ट्रेन करीब 10:00 बजे टोरी स्टेशन से खुलने के उपरांत 20-25 अपराधियों द्वारा जीआरपी स्कार्ट पार्टी के दो जवान पर हमला कर दिया गया। अपराधी के हमले में आरक्षी कैलाश प्रसाद यादव घायल हो गए वह शहीद को प्राप्त हुए, साथ ही शहीद आरक्षी स्वर्गीय चंदन कुमार,पत्नी पूनम ,देवी ग्राम लॉन्च घाट ,पाइप रोड ,पोस्ट साहिबगंज, थाना नगर,जिला साहिबगंज को याद करते हुये कहा कि दिनांक 12/06/2009 को नक्सलियों द्वारा घोषित बंद के दौरान बेरमो में स्टेट बैंक ऑफ इंडिया शाखा की सुरक्षा में प्रतिनियुक्त सुरक्षाकर्मियों पर हमला कर हथियार लूटने की सूचना पुलिस को प्राप्त हुई। प्राप्त सूचना के आधार पर उग्रवादी के धर पकड़ व लूटे गए हथियार को बरामद करने के उद्देश्य से पुलिस दल ने एमपी वाहन द्वारा घटनास्थल के लिए प्रस्थान किया। इसी बीच पूर्व से घात लगाकर बैठे वादियों के द्वारा बारूदी सुरंग विस्फोट कर उक्त वाहन को क्षतिग्रस्त कर दिया गया जिसमें सैप1 के आरक्षी 63 चंदन कुमार वीरगति को प्राप्त हुए। उन्होंने कहा कि शहीद आरक्षी संतोष कुमार मंडल, पिता राजकुमार मंडल, ग्राम समदासीज, पोस्ट सकरीगली घाट, थाना मुफस्सिल, व आरक्षी शहीद राजीव कुमार शर्मा पिता मुरारी प्रसाद शर्मा ग्राम सेवक पोस्ट कल्यांचक थाना राजमहल दोनो  जिला साहेबगंज दिनांक 02/07/2013 को पुलिस अधीक्षक अमरजीत बलिहार के पुलिस उपमहानिरीक्षक ,संथाल परगना क्षेत्र दुमका, के साथ बैठक कर के उपरांत पाकुड़ वापस आने के क्रम में दुमका जिला अंतर्गत काठी कुंड थाना क्षेत्र के गोपीकंदर स्थित ग्राम जामिनी के समीप माओवादी द्वारा बारूदी सुरंग विस्फोट कर फायरिंग की गई इस पर पुलिस पार्टी द्वारा अदम साहस व वीरता का परिचय देते हुए जान की परवाह किए बगैर डटकर मुकाबला किया गया। जिसमें आरक्षी 90 संतोष कुमार मंडल व आरक्षी 118 राजीव कुमार शर्मा  वीरगति को प्राप्त हुए।




No comments