देवघर जिला की पहल “विद्यालय आपके द्वार” कार्यक्रम के तहत मोहल्ला क्लासेज के माध्यम से बच्चों तक गुणवत्तापूर्ण शिक्षा पहुचायेंगे शिक्षक- उपायुक्त



देवघर गुरुवार को उपायुक्त-सह-जिला दंडाधिकारी  कमलेश्वर प्रसाद सिंह की अध्यक्षता में विडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से शिक्षा विभाग के द्वारा किये जा रहे कार्यों एवं डिजी साथ कार्यक्रम के अंतर्गत संचालित ऑनलाइन क्लासेज, क्विजाथन कार्यक्रम, इनेबल डिजिटल फेसिलिटेशन स्किल्स प्रशिक्षण एवं बच्चों को मिलने वाली विभिन्न सुविधाओं की विस्तृत समीक्षा कर संबधित अधिकारियों को आवश्यक एवं उचित दिशा-निर्देश दिया गया। इस दौरान पीपीटी के माध्यम से सुजीत कुमार द्वारा विषयवस्तुवार का विस्तृत प्रस्तुतीकरण किया गया।

इसके अलावे विडियो कॉन्फ्रेंसिंग के दौरान उपायुक्त  कमलेश्वर प्रसाद सिंह ने कहा कि शिक्षकों को प्रोत्साहित किया गया था कि स्वैच्छिक रूप से आगे बढ़कर अपने विद्यालयों के पोषक क्षेत्र में मोहल्ला क्लासेज का संचालन करें लेकिन बहुत सारे विद्यालयों के शिक्षक अभी भी मोहल्ला क्लासेज का संचालन नही कर रहे है जो कि निराशाजनक है। कोरोना संक्रमण काल में शिक्षा दान से बढ़कर कुछ नही है इसलिए सभी प्रखंड शिक्षा प्रसार पदाधिकारी एवं प्रखंड कार्यक्रम पदाधिकारियों को निर्देशित किया गया कि विद्यालय स्तर पर पोषक क्षेत्र का विभाजन कर जिन बच्चों के पास स्मार्ट फोन नही है उनके लिए मोहल्ला क्लासेज का संचालन करना सुनिश्चित करें। साथ हीं समीक्षा के क्रम में उपायुक्त द्वारा सुजीत कुमार को निर्देशित किया कि शिक्षा आपके द्वार कार्यक्रम का एसओपी बनाकर उपायुक्त कार्यालय को उपलब्ध करवाये ताकि  इस संदर्भ में विभागीय पत्र भी निर्गत किया सकें। डिजी साथ कार्यक्रम के संकेतांको को बेहतर बनाए बेहतर

पीपीटी के माध्यम से उपायुक्त के समक्ष पीरामल फाउंडेशन के सुजीत कुमार द्वारा डिजी साथ कार्यक्रम की स्थिति प्रस्तुत की गई। साथ हीं विद्यालय स्तरीय व्हाट्सएप ग्रुप निर्माण के मामले में देवघर जिला दुसरे पायदान पर है, जबकि अन्य संकेतांको को कड़ी मेहनत करने की जरुरत है। ऑनलाइन बैठक के दौरान उपायुक्त  कमलेश्वर प्रसाद सिंह ने रोष प्रकट करते हुए कहा कि विद्यालय के कार्य दिवस से पांच मिनट निकाल कर पुष्टिकरण फॉर्म नही भरना घोर विभागीय निर्देशों की अवहेलना है। आपको बताते चलें कि 6 अक्टूबर को आधार दिवस के अनुसार करौं के सिर्फ 50% विद्यालयों ने एवं मारगोमुंडा के 43% विद्यालयों ने पुष्टिकरण फॉर्म भरा जिसके कारण राज्य द्वारा जिला का रैंकिंग 13 वां दर्ज किया गया। समीक्षा के क्रम में उपायुक्त महोदय ने पाया कि देवघर जिले के 80% संकुल साधन सेवियों द्वारा ही पुष्टिकरण फॉर्म भरा जाता है जिसके कारण 1446 विद्यालयों तक ही डिजिटल कंटेंट पहुँच पता है जो कि संकुल साधन सेवियों के दायित्वहीनता का घोतक है। तमाम बातों को ध्यान में रखते हुए, उपायुक्त ने सभी प्रखंड शिक्षा प्रसार पदाधिकारी एवं प्रखंड कार्यक्रम पदाधिकारियों सख्त निर्देश दिया कि अगले समीक्षा बैठक तक प्रदर्शन को बेहतर बनाये अन्यथा संबंधित के खिलाफ उचित कार्रवाई की जाएगी। जिले के रैंकिंग एवं प्रदर्शन को बेहतर करने वाले होंगे 23 अक्टूबर को सम्मानित

ऑनलाइन समीक्षा के क्रम में उपायुक्त  कमलेश्वर प्रसाद सिंह ने कहा कि बहुत सारे ऐसे प्रखंड शिक्षा प्रसार पदाधिकारी, प्रखंड कार्यक्रम पदाधिकारी, संकुल साधन सेवी, क्विजाथन टीम, स्वैच्छिक रूप से मोहल्ला क्लासेज संचालित करने वाले शिक्षक हैं, जो तमाम अवरोधों के वाबजूद बेहतर प्रदर्शन को लेकर दृढ-संकल्पित है, उन्हें जिला प्रशासन के द्वारा सम्मानित किया जायेगा। साथ हीं उन्होंने बैठक से जुड़े सभी अधिकारियों व कर्मियों को प्रोत्साहित करते हुए कहा कि जीवन में कुछ करते रहने का नाम ही शिक्षा है, जहाँ नवाचारी प्रयास होता है वहां वांछित परिणामों की संभावना काफी बढ़ जाती है इसलिए उन्होंने कहा कि जिला प्रशासन समय-समय पर ऐसे लोगो को सम्मानित करता रहेगा। 

 साप्ताहिक क्विज में शत-प्रतिशत बच्चों को प्रतिभाग करवाएँ शिक्षकः-उपायुक्त

इसके अलावे उपायुक्त ने साप्ताहिक क्विज में प्रदर्शन को लेकर आंशिक संतोष प्रकट करते हुए कहा कि यह आकंडे प्रदर्शित करते है कि यदि हम सामूहिक रूप से प्रयास करेंगे तो प्रतिफल मिलने की संभावना पढ़ जाती है। उन्होंने मधुपुर अनुमंडल के प्रखंडों को विशेषरूप से फलदायी रणनीति के तहत साप्ताहिक क्विज के प्रदर्शन को बेहतर बनाने हेतु निर्देशित किया। साथ हीं उन्होंने कहा कि विद्यालय में नामांकित सभी बच्चे साप्ताहिक क्विज में भाग लेंगे। इसके लिए विद्यालय के शिक्षक पोषक क्षेत्र का विभाजन करके शनिवार को गाँव में जाएँ एवं प्रखंड टीम बना कर जाँच कराएं कि सभी शिक्षक विभागीय आदेशो का अनुपालन कर रहे है अथवा नहीं। इसके अलावे उन्होंने स्पष्ट करते हुए कहा कि शनिवार को कोई रोस्टर व्यवस्था लागू नही होगी इसलिए सभी शिक्षकों को विद्यालय के पोषक क्षेत्र में जाना है अथवा शत-प्रतिशत विद्यार्थियों को क्विज में प्रतिभाग करवाना सुनिश्चित करना है। क्विजाथन कार्यक्रम के अंतर्गत होगी 19 अक्टूबर को 8 वीं कक्षा का टेस्ट....*

समीक्षा के क्रम में सुजीत कुमार ने बताया कि पूरे झारखण्ड में देवघर ऐसा जिला बना जिसने वृहत स्तर पर कक्षा 9 वीं एवं 10 वीं का विषय आधारित टेस्ट वेब-बेस्ड तकनीक से लिया गया है। इस वेब आधारित टेस्ट में अन्य जिलों के बच्चों के रूचि दिखाई है। इसके लिए जिला स्तर आर मित्रा उच्च विद्यालय के प्रधानाध्यापक के अध्यक्षता में एवं नेट इंडिया द्वारा तकनीकी सहयोग से एक समर्पित टीम काम कर रही है, चूँकि, कक्षा 8 का भी बोर्ड परीक्षा आयोजित होनी है इसलिए जिला स्तर पर निर्णय लिया कि आगामी 19 अक्टूबर को जिले के सभी कक्षा 8 में नामांकित बच्चों का टेस्ट लिया जायेगा। इससे एक तरफ बच्चे अपने अधिगम स्तर का आकलन कर रहे होंगे वही दूसरी तरफ बोर्ड का भी पूर्वाभ्यास हो रहा होगा।ऑनलाइन समीक्षा बैठक में उपरोक्त के अलावे* जिला शिक्षा पदाधिकारी, जिला शिक्षा अधीक्षक सभी प्रखण्ड शिक्षा प्रसार पदाधिकारी एवं संबंधित अधिकारी आदि उपस्थित थे।

No comments