मदरसा इस्लामिया मधुपुर के शिक्षक मिले स्वर्गीय हाजी हुसैन अंसारी के बड़े पुत्र हफिजुल हसन से और हौसला अफजाई कर कहा हर दुख सुख मैं हम सब आपके साथ हैं



मधुपुर 10 अक्टूबर मदरसा इस्लामिया मधुपुर के सभी शिक्षक मधुपुर अपने हर दिल अजीज रहनुमा मरहूम हाजी हुसैन अंसारी के केला बागान रिहाइशगाह पहुंचे !जहां मरहूम के घरवालों से मिले और उनके बड़े पुत्र जनाब हफीजुल हसन से मिल कर उनको हौसला अफजाई की और हर दुख सुख में शामिल रहने की बात कही और यकीन दिलाया! इस मौके पर मदरसा के हेड मौलवी हाफिज वली उल्ला .हाफिज कुतुबुल रहमान. मौलाना मोहम्मद अलाउद्दीन .मौलाना अब्दुल रकीब .मौलाना जमशेद .मास्टर बरकत अली. हाफिज मोहम्मद वसीम साहबान. इत्यादि उपस्थित थे !  मौके पर हाफिज कुतुबरहमान ने कहा के झारखंड के हर दिल अजीज रहनुमा हाजी हुसैन अंसारी हम लोगों को अचानक छोड़कर चले जाना और अल्लाह की प्यारे हो जाना हम अल्पसंख्यकों के लिए बड़ा क्षति है !आज हम लोगों को ऐसा महसूस हो रहा है कि हम लोग यतीम हो गया  और एक बरगजीदा मुस्लिम सियासी रहनुमा से मेहरूम हो गया हूं !उन्होंने कहा हाजी हुसैन अंसारी का कोई मिसाल पेश नहीं कर सकता मरहूम हर एक के दिलों पर हुकूमत करते थे यही वजह है कि मरहूम की कमी हर एक शख्स को खल रहा है !हाजी हुसैन अंसारी मिल्लत से बेपनाह मोहब्बत करते थे और उनका दिली रिश्ता मिल्लत से था और हमेशा मिल्लत की मसले को हल करने के लिए फिक्र मंद रहते थे !उन्होंने कहा झारखंड मुस्लिम मिल्लत को एक दर्द मंद शख्सियत से मेहरूम अल्लाह ताला ने कर दिया इसका एहसास अब हमें महसूस हो रही है आज हाजी हुसैन अंसारी हम लोगों के बीच नहीं है मगर उनके मोहब्बत और उनके दिए हुए सबक को कभी नहीं भुलाया जा सकता !अल्लाह ताला से दुआ है के मरहूम को करवट करवट जन्नत नसीब अता फरमाए और तमाम उनसे मोहब्बत करने वालों को सब्र करने की क्षमता दे!

No comments