खुला पथरौल मां काली मन्दिर का दरबार,मंदिर खुलने से पुरोहितो में हर्ष!



मधुपुर:देवघर जिला के सुप्रसिद्ध मां पथरौल काली मंदिर लगभग 6 महीने बाद सरकार के निर्दैश पर खुलने से श्रद्धालु व पुजारियो में हर्ष का माहौल है।यहाँ प्रातःसे ही श्रद्धालु पुजा अर्चना के लिए पहुँचने लगे है.मंदिर के पुजारी ने कहा कि मंदिर में 111 पुरोहित है।जिनका भरण पोषण मंदिर पर अधारित है।मंदिर खुलने से पुरोहितो में हर्ष है।वही आपको बताते चले कि मां काली मंदिर का पट्ट पिछले 22 मार्च जनता कर्फ्यू के दिन से कोविड-19 महामारी के भय से बंद था।जो हाल के दिनों में केंद्र सरकार के द्वारा सभी मंदिरों की खोलने की अनुमति दिए जाने के बाद नये गाइडलाइन के अनुसार मन्दिर खुल जाने से पुरोहितो में हर्ष है।वही इन दिनों में कई त्यौहार आए और चले गए। मगर मंदिर का पट्ट बंद का बंद हीं रहा।इस बीच रामनवमी पूजा, बुद्ध पूर्णिमा, वटसावित्री पूजन, रक्षाबंधन,कृष्ण जन्माष्टमी,तीज और विश्वकर्मा पूजा के दिन भी मन्दिर का पट्ट बंद रहा।इसके अलावा दुल्हा-दुल्हनों की शादी-विवाह व बच्चों का मुंडन संस्कार तथा मंदिर प्रांगण में होने वाले सभी तरह की मांगलिक कार्य वंचित रहा।हालांकि इन दिनों बाहर एवं स्थानीय कई श्रद्धालु मंदिर आए मगर बाहर से मत्था टेककर पुनः वापस लौट गए। इन दो सौ दिनों में तकरीबन एक लाख से ऊपर श्रद्धालु माँ काली का दर्शन-पूजन भी नहीं कर पाए। इस बीच मंदिर पर आश्रित पुजारी और दुकानदारों को लाखों रुपए का नुकसान हुआ है।इससे मंदिर पर आश्रित लोगों को आर्थिक संकट से भी गुजरना पड़ा।मंदिर के पुजारियों ने कहा कि सरकार के गाइडलाइन के अनुसार ही मंदिरों में भक्तों को पूजा अर्चना कराया जाएगा।कोविड-19 के सारे नियम को पूरी तरह से पालन किया जाएगा!

No comments