देवघर जिला कांग्रेस द्वारा जिला अध्यक्ष मुन्नम संजय के नेतृत्व में राष्ट्रपिता महात्मा गांधी एवं भूतपूर्व प्रधानमंत्री लालबहादुर शास्त्री की जयंती पर टावर चौक स्थित गांधी प्रतिमा स्थल पर धरना दिया



देवघर अखिल भारतीय कांग्रेस एवं झारखंड प्रदेश कांग्रेस कमिट के निर्णयानुसार केन्द्र सरकार द्वारा किसान विरोधी तीन बिलों को वापस लेने एवं युपी के हाथरस कांड को लेकर देवघर जिला कांग्रेस द्वारा जिला अध्यक्ष मुन्नम संजय के नेतृत्व में राष्ट्रपिता महात्मा गांधी एवं भूतपूर्व प्रधानमंत्री लालबहादुर शास्त्री की जयंती पर टावर चौक स्थित गांधी प्रतिमा स्थल पर धरना दिया। धरना के पूर्व जिला कार्यालय में गांधी जी एवं शास्त्री जी के तस्वीर पर माल्यार्पण कर श्रद्धांजलि दी। तत्पश्चात पैदल मार्च कर धरना स्थल पर कोविड-19 के बचाव के नियमों का अनुपालन करते हूए धरना में भाग लेंगें। धरना को संबोधित करते हुए जिला पर्यवेक्षक सतीश केडिया ने कहा किसानों को गला घोंटने वाली ये बिल से किसानों को अपने ही जमीन पर बंधुआ मजदूर के रुप में काम करना पड़ेगा, पूंजीपतियों को जमाखोरी कर मुनाफा कमाने का अवसर मौदी जी के द्वारा तैयार किया गया। ये बिल लागू होने से हमारे देश के किसान फिर से गूलामी की जंजीर में जकड़ जाऐंगें। किसानों के अहित में ये काला कानून अलोकतांत्रिक तरीके से बल पूर्वक लोक सभा और राज्य सभा से पास करा लिया गया। कांग्रेस पूरी ताकत के साथ किसानों की लड़ाई लड़ेगी। हमारी मांग है कि ये बिल केन्द्र सरकार वापस लें, अन्यथा झारखंड में यह कानून लागू नहीं होने देंगें। आगे जिला अध्यक्ष मुन्नम संजय ने कहा कि देश सुरक्षित नहीं हैऔर न ही माँ-बहन,बहू बेटी भी सुरक्षित है। कृषि प्रधान देश के मेरुदंड अन्नदाता किसान को फिर से जमींदारी प्रथा में ढकेलने का काम कर रही है। हरित क्रांति एवं बाजार समिति को समाप्त करने का प्रयास किया जा रहा है।  किसानों की सारी स्वतंत्रता छीनी जा रही है। कालाबाजारी के लिए जमाखोरी का प्रचलन जारी कर दिया ताकि चंद पूंजीपति ब्लेक मार्केटिंग कर सकें। करोड़ों रोजगार समाप्त हो जाएगी। यह बिल जल्द वापस लें। अन्यथा हमारी आन्दोलन जारी रहेगा। इस   हालात में हमारे कांग्रेस झारखंड में कृषि ऋण की माफी की घोषणा से यहाँ के किसान काफी खुश हैं। इस निर्णय का हम सम्मान करते हैं। वहीं हाथरस की घटना की घोर भर्तसना करते हुए राहूल गांधी के साथ हुए अभद्र व्यवहार और गिरफ्तारी पर योगी की  तानाशाही,निरंकुश, निष्ठुर और गुंडागर्दी की शासन समाप्त कर लोकतंत्र की रक्षा के लिए अविलंब राषट्रपति शासन लागू हो।

धरना में बिल को वापस लेने को लेकर एवं हाथरस की निर्मम घटना पर वरिष्ठ नेता मणीशंकर, प्रो.उदय प्रकाश, सेवा दल के अजय कुमार,अवधेश प्रजापति,नागेश्वर सिंह, दिनेशानंद, मिडिया प्रभारी दिनेश मंडल, संचालक शुकदेव दूबे,भरत भूषण, जियाऊल हक, रवि केशरी, महेंद्र यादव,मकसूद आलम,युवा अध्यक्ष आदित्य सरोलिया,प्रमिला देवी, नाहिदा सुल्तान, विजयनाथ मिश्रा, कृष्ण मोहन चौबे, प्रदीप राव,प्रखंड अध्यक्ष उपेंद्र राय,पंजाबी राउत,नजाबुल अंसारी,नटराज प्रदीप, ओमप्रकाश सिंह, संजीव मिश्रा,सुधीर देव,त्रिपुरारी सिंह, जयशंकर शरण,सदाशिव राणा,अभिषेक दूबे, ने संबोधित किया। साथ ही मनमोहन झा, रवि गुप्ता,गौतम, ओमप्रकाश यादव,अभय कुमार,संजीव चौधरी,अंमित पांडेय,अंकूर आनंद, विशाल वत्स,गुलाब यादव, सत्यनारायण राम,अजुर्न सिंह, धनराज यादव,निगम,राहुल राज,नवीन शर्मा, राजकुमार शर्मा, राजीव कुमार, श्वेत उपाध्यय,डा. अनुप, मोजीब खिन,महादेव पंडित, राधापाल, भवतारिणी शर्मा, मोहनुद्दीन शेख,नन्दलाल यादव,रंजीत मंडल,किशोर सिंह,समरुद्दीन,नकूल दास,गीता देवी, अंकिता कुमारी, दीपचंद कुमार, कामेश्वर पंडित,राजेश यादव, कृष्णा पासवान, मुकेश गुप्ता, मुकेश यादव पीताम्बर सिंह आदि सैकड़ों ने भाग लिया

No comments