पीएम आवास से वंचित परिवार नारकीय जिंदगी गुजरने को मजबूर



साहिबगंज संवाददाता:--प्रदेश सरकार भले ही गरीबों को पीएम आवास दिलाकर लाभान्वित करने का दावा कर रही है। लेकिन अभी भी बहुत से गरीब परिवार इस योजना से कोषों दूर है। बरसात के महीने में पुराने मकानों में रहने को मजबूर हैं। बारिश से बचने के लिए इन परिवारों को फाटे-फूटे तिरपाल , पालीथिन या दूसरे के छत का सहारा लेना पड़ रहा है।उधवा प्रखंड के पंचायत श्रीधर अंतर्गत साहेबटोला निवासी रोहिमा वेवा पति मरहूम गुलाब सेख भी आवास से वंचितों में से एक है। पति के गुजर जाने के बाद रोहिमा वेवा की हालत काफी दुखिनीय हैं। वह आज भी झोपड़ी बनाकर जीवन यापन कर रहा है। छत के नाम पर कुछ भी नहीं है। और थोड़ी सी बारिश के बाद झोपड़ी में चारों ओर टपटप पानी टपकने लगता है। इस दौरान सामान भी भीग जाता हैं। वर्षो से झुग्गी झोपड़ी बनाकर रहने तथा बारिशों में रातों रात जागे रहने पर मजबूर हैं। रोहिमा वेवा ने बताया कि वह बेहद गरीब हैं। उसका कहना कि कई बार प्रधान से आवास की मांग की गई लेकिन आज तक आवास नहीं मिला है। रोहिमा वेवा का कहना है कि गांव में पात्रों का सर्वे हुआ था। जिसमें नाम भेजा गया था। इसके बाद भी उसे आवास का लाभ नहीं मिला है। बिना आवास रोहिमा वेवा को कठिनाइयों का सामना करना पड़ रहा है। पीड़ित ने जिलाधिकारी से आवास दिलाये जाने की मांग की है। यही हाल गांव में कई अन्य गरीबों का हैं। जो माने तो पीएम आवास की असली हकदार हैं, और वही आजतक आवास कोषों दूर नजर आ रहा है।


No comments