ग्रामीण क्षेत्र में करें विशेष जागरूकता अभियान का आयोजन उपायुक्त


ब्यूरो रिपोर्ट।उपायुक्त-सह-जिला दण्डाधिकार कमलेश्वर प्रसाद सिंह की अध्यक्षता में आज पोषण अभियान से संबंधित जिलां स्तरीय कन्वर्जेन्स समिति की समीक्षा बैठक समाहरणालय सभागार में आयोजित की गई। इस दौरान जिला समाज कल्याण विभाग द्वारा किशोरी, गर्भवती महिलाओं, धात्री महिलाओं के बेहतर स्वास्थ्य एवं कुपोषण मुक्त देवघर पर विस्तृत चर्चा करते हुए संबंधित अधिकारियों को आवश्यक व उचित दिशा-निर्देश दिया। 

इसके अलावे बैठक के दौरान उपायुक्त द्वारा विभिन्न बिंदुओं यथा-पूरक आहार, साफ पीने का पानी, आंगनबाड़ी/स्वास्थ्य केंद्रों में शौचालय निर्माण की स्थिति, विटामिन-ए, आयरन फॉलिक एसिड की दवा एवं सिरप, टीकाकरण, वृद्धि चार्ट आदि विषयों की समीक्षा करते हुए संबंधित अधिकारियों को निदेशित किया कि ग्रामीण क्षेत्रों में साफ-सफाई के प्रति लोगों को जागरूक करते हुए बच्चों के स्वास्थ्य सुरक्षा का विशेष रूप से ध्यान रखें। इस दौरान उन्हांेने सिविल सर्जन को निदेशित किया कि महिलाओं एवं किशोरियों के बेहतर स्वास्थ्य हेतु आंगनबाड़ी एवं स्वास्थ्य केंद्रों के माध्यम से दी जाने वाली दवाइयां समय से सभी जगह पहुँच जाय इसका विशेष रूप से ध्यान रखें, ताकि किसी भी प्रकार की समस्या न हो। सबसे महत्वपूर्ण आपसी समन्वय स्थापित करते हुए सभी केन्द्रों पर दवा पहुँचना सुनिश्चित करें, ताकि शतप्रतिशत दवा महिलाओं एवं किशोरियों को खिलाई जा सके।

समीक्षा के क्रम में उपायुक्त ने जिला समाज कल्याण पदाधिकारी को निदेशित किया कि आंगनबाड़ी केंद्रों के माध्यम से बच्चों, महिलाओं के स्वास्थ्य संबंधी जांच/टीकाकरण आदि का कार्य प्रत्येक माह निर्धारित समय से कराया जाय। साथ हीं जिला स्तर पर टीकाकरण के कार्य में कोताही बरतने वाले कर्मियों व संबंधित अधिकारियों पर विभागीय कार्रवाई किये जाने की बात कही। 

*■ उपायुक्त ने जिला समाज कल्याण पदाधिकारी को दिये आवश्यक दिशा-निर्देश...*

इसके अलावा बैठक के दौरान उपायुक्त श्री कमलेश्वर प्रसाद सिंह द्वारा आंगनबाड़ी केंद्रों पर बच्चों के विकास दर को मापने हेतु उपलब्ध कराए गए इलेक्ट्रॉनिक मशीन के द्वारा किये जाने वाले कार्य की वास्तुस्थिति से अवगत हुए। साथ हीं जिला समाज कल्याण पदाधिकारी को निदेशित किया कि बच्चों के वृद्धि दर अर्थात वजन, लंबाई, ऊँचाई आदि का बेहतर तरीके से जाँच करते हुए इससे जुड़ी जानकारी से उनके परिजनों को भी अवगत करायें। आगे उन्होंने कहा कि इस कार्य हेतु संबंधित कर्मियों का प्रशिक्षण का कार्य सही तरीके से कराया जाय, ताकि बच्चों के वृद्धि दर मापने के कार्य मे किसी भी प्रकार की कोई गड़बड़ी ना होने पाए। उपायुक्त द्वारा जिले में संचालित 5 एमटीसी केंद्रों द्वारा किये जा रहे कार्यो की जानकारी ली गई एवं जिला समाज कल्याण पदाधिकारी के माध्यम से सभी महिला पर्यवेक्षकों को निदेश दिया कि कुपोषित बच्चों की पहचान करते हुए सभी को एमटीसी केंद्र पर लाया जाय एवं उनका समुचित और बेहतर ईलाज किया जाय।

बैठक के दौरान उपायुक्त ने जिला समाज कल्याण पदाधिकारी को निदेशित किया कि आंगनबाड़ी केंद्रों पर गोदभराई, अन्नपरासन आदि के कार्यक्रमों को कराया जाय ताकि जच्चा ई बच्चा दोनो के स्वास्थ्य के प्रति लोगो एवं महिलाओं को जागरूक किया जा सके ताकि सही पोषण देश रौशन के नारा को सार्थक किया जा सके।

*उपरोक्त के अलावे बैठक में* सिविल सर्जन डॉ0 विजय कुमार, जिला कल्याण पदाधिकारी श्री अजय सिंह बड़ाईक, जिला समाज कल्याण पदाधिकारी अनिता कुजूर, सभी आंगनबाड़ी पर्यवेक्षिका, जिला कार्यक्रम प्रबंधक नीरज कुमार, सुशील पांडेय आदि उपस्थित थे।

No comments