पूर्व राष्ट्रपति भारत रत्न डॉक्टर प्रणव मुखर्जी के निधन पर देवघर जिला कांग्रेस कार्यालय में दिवंगत पूर्व राष्ट्रपति के तस्वीर पर माल्यार्पण कर श्रद्धांजलि दी


ब्यूरो रिपोर्ट। देवघर: सोमवार को पूर्व राष्ट्रपति भारत रत्न डॉ प्रणव मुखर्जी के निधन पर देवघर जिला कांग्रेस ने कार्यालय में दिवंगत पूर्व राष्ट्रपति के तस्वीर पर माल्यार्पण एवं पुष्प अर्पित कर विनम्र श्रद्धांजलि दी, तथा 2 मिनट का मौन रखकर उनकी आत्मा की शांति के लिए ईश्वर से प्रार्थना किया। श्रद्धांजलि सभा कोविड-19 के बचाव के नियमों का अनुपालन करते हुए जिला अध्यक्ष श्री मुन्नम संजय की अगुवाई में संपन्न हुआ।श्रद्धांजलि के उपरांत मुन्नम संजय ने कहा कि प्रणव मुखर्जी देश के सर्वश्रेष्ठ सांसद, दुनिया में प्रथम दर्जे का वित्त मंत्री, पद्म विभूषण तथा भारत रत्न की उपाधि से नवाजे गए हैं। जिन्होंने भारत के 13वें राष्ट्रपति के रूप में अपने पद की गरिमा को पूरे विश्व में स्थापित किया। डॉ. मुखर्जी कांग्रेस के वरिष्ठ नेता के साथ अभिभावक भी थे। जिन्होंने लोकसभा में सदन के नेता के साथ रक्षा, वित्त, विदेश, राजस्व, नौवहन, परिवहन, संचार, आर्थिक मामले, वाणिज्य और उद्योग जैसे विभिन्न महत्वपूर्ण मंत्रालयों के मंत्री होने का गौरव भी हासिल किया। पश्चिम बंगाल के बीरभूम में जन्मे प्रणव दा का लगाव देवघर से इस प्रकार था कि राष्ट्रपति रहते उनका आगमन दो बार हुआ। उनके अनेक विचारों में जैसे शिक्षा, युवा शक्ति,तथा गरीबी उन्मूलन के अलावे सबसे महत्वपूर्ण एक विचार था कि "हमारी मां के लिए हम सभी बच्चे समान हैं और भारत सभी से यह पूछ रहा है कि हम इस राष्ट्र निर्माण की जटिल नाटक में अपनी कौन सी भूमिका निभा रहे हैं। हमारा कर्तव्य है कि हमारे संविधान में प्रतिष्ठापित मूल्यों के प्रति निष्ठा व प्रतिबद्धता रखें।" आज देशने एक महान नेता को खोया हैऔर एक युग का अंत हो गया। हम कभी उन्हें भूल नहीं पाएंगें। इस अवसर पर सेवादल के प्रदेश उपाध्यक्ष अजय कुमार,विशेष रुप से झारखंड मुक्ति मोर्चा के वरिष्ठ नेता सुरेश साह, मणिकांत यादव, मीडिया प्रभारी दिनेश मंडल, पूर्व नगर अध्यक्ष रवि गुप्ता,रामाकांत कुमार, कन्हैया कुमार, अधीर आदि मौजूद थे।

No comments