नाली निर्माण में कनीय अभियंता द्वारा घोर अनिमियत्ता , ग्रामीणों ने पंचनामा देकर की विभाग से शिकायत



उधवा/साहिबगंज: उधवा प्रखंड पिलघुटु ग्राम, पंचायत सुतियार पाड़ा गांव में ग्रामीणों की सुविधा के लिए सड़क किनारे नाली के निर्माण कराया जा रहा हैं, लेकिन ग्रामीणों के आरोप है कि, कनीय अभियंता द्वारा गलते तरीके से और घटिया सामग्री से नाली का निर्माण करा दिया गया है। ग्रामीणों ने इस संबंध में पंचनामा देकर ग्रामीण विकास विभाग , झारखंड रांची से इसकी शिकायत की है।  पंचनामे में ग्रामीणों ने लिखा है की, ग्राम में ग्रामीण विकास विभाग के द्वारा ग्राम सड़क के किनारे नाली का निर्माण किया जा रहा है। जहाँ अभी तक सूचना पट्ट नही लगाया गया है एवं ग्रामीणों द्वारा कार्य  कनीय अभियंता एवं ठेकेदार से प्राक्कलन प्रारूप अवलोकन हेतु मांगने पर एवं सूचना पट्ट लगाने के संदर्भ में कहने पर न तो अब तक किसी को दिखाया गया और न ही सूचना पट्ट कार्यस्थल पर लगाया गया। कनीय अभियंता एवं ठेकेदार द्वारा निर्माण सामग्री अत्यंत घटिया किस्म के उपयोग में लाया गया है। जहाँ दस इंच नाली निर्माण हो, वही कही कही पांच इंच का ही किया गया है। एवं निचले स्तर में सिर्फ डस्ट डाला गया है तथा प्राक्कलन प्रारूप की पूर्ण रूप से अनदेखी करते हुए सीमेंट सिर्फ नाम मात्र देकर खानापूर्ति की गई है। साथ ही ईट भी निम्न स्तर का लगाया गया जिससे कुछ ही दिनों में नाली ध्वस्त हो जाने की प्रबल संभावना है। साथ ही ग्रामीणों का आरोप है कि कनीय अभियंता अपने मनमानी तरीके से जल निकास पुलिया को भी बंद कर नाली का निर्माण कर चुके हैं , जिससे उक्त स्थल का जल निकास पूरी तरह से अवरुद्ध हो चुका है। वही एक तरफ जलजमाव स्थिति उत्पन्न हो गई है जिससे कभी भी जलजनित रोगों की होने की आशंका है। वही पत्र में ये भी लिखा है कि कनीय अभियंता द्वारा प्राक्कलन प्रारूप की खानापूर्ति हेतु मुख्य सड़क छोड़कर कही कही किसी व्यक्ति विशेष को खुस करने के लिए उनके गली में नाला का निर्माण किया गया। आपको बता दें कि कनीय अभियंता के मनमानी को लेकर इससे पहले भी बीडीओ सह सीओ राजेश एक्का को ग्रामीणों ने लिखित रूप से 08-08-2020 को शिकायत की थी। इसके पश्चात कनीय अभियंता द्वारा गुणवत्ता पूर्वक कार्य संपन्न की आश्वासन देकर एवं गुमराह कर दुराशय भावना से कुछ ग्रामीणों के अनापत्ति का आवेदन बना लिया गया था। और पुनः मनमानी ढंग से जैसे तैसे कार्य को सम्पन्न कर दी गई। जिससे बहुत ही कम समय में नाला टूट जाने की संभावना है। जिससे सरकारी राशि का दुरुपयोग होगा । ग्रामीणों ने पंचनामे के माध्यम से ग्रामीण विकास विभाग की ध्यान आकर्षित करते हुए नाले निर्माण में स्वच्छ जाँच करवाकर कनीय अभियंता पर उचित करवाई की मांग की है। पांचनामे में संतोष साहा, श्रावण साहा,नोगेन साहा ,जलील अंसारी, संजय साहा , दिनेश कुमार साहा, मिठुन साहा, पवन कुमार ठाकुर,मोती लाल साहा,  बिनोद साहा, सहित दर्जनों के नाम शामिल हैं। 

क्या हते है पदाधिकारी:

प्राप्त आवेदन के आलोक में योजना स्थल का जांच कर आगे की कार्रवाई की जाएगी।

राजेश एक्का-प्रखंड विकास पदाधिकारी उधवा


No comments