पोषण माह को सफल बनाने के उद्देश्य से किए जा रहे विभिन्न कार्यक्रमों के आयोज

 


देवघर जिला अंतर्गत पोषण अभियान के तहत विभिन्न कार्यक्रमों का आयोजन किया जा रहा है।इस कड़ी में सभी आंगनबाड़ी केन्द्रों में बच्चों को पोषण के महत्व को बताने के उद्देश्य से पोषण रंगोली कार्यक्रम का आयोजन किया गया। इस दौरान कुपोषण से लड़ने हेतु किन-किन चीजों का सेवन करना आवश्यक है, इसकी जानकारी सभी को पोषण रंगोली बनाकर उपलब्ध कराई गई। इसके निर्माण में हरी सब्जियों के साथ, पौष्टिक आहार, फल आदि के साथ शरीर में पोषक तत्वों की कमी को पूरा करने वाले राशन का इस्तेमाल किया गया। रंगोली के माध्यम से महिलाओं, युवतियों एवं अन्य स्थानीय लोगों को पोषण को ध्यान में रखते हुए अपने व्यवहार में लाए जाने वाले बदलाव, खानपान के तौर तरीके, साफ सफाई आदि से जुड़ी विस्तृत जानकारी दी गई। साथ ही लोगों को पौष्टिक आहार के बारे में बताते हुए हरी सब्जियां खाने के लिए प्रेरित किया गया। 

इसके अलावे कार्यक्रम के दौरान बच्चों को हाथ धुलाई के महत्व और उसके 7 स्टेप्स की जानकारी प्रदर्शित कर दी गयी। 

 ‘‘भोजन से पहले और शौच के बाद, हाथ है धोना ये याद रखना‘‘ नारे के साथ बच्चों ने स्वच्छता की शपथ ली। इसके अलावे बच्चों को शौचालय का उपयोग करने के लिए प्रेरित किया गया।

कार्यक्रम के दौरान बच्चों को शौचालय के उपयोग व इससे होने वाले फायदों की जाकनारी दी गयी। इसके अलावे साफ-सफाई को लेकर बच्चों को जागरूक करते हुए बतलाया गया कि हमारे हाथों में अनदेखी गंदगी छिपी होती है, जो किसी भी वस्तु को छूने, उसका उपयोग करने एवं कई तरह के दैनिक कार्यों के कारण होती है। यह गंदगी बगैर हाथ धोए खाद एवं पेयजल पदार्थों के सेवन से आपके शरीर में जाती है और बीमारियों को जन्म देती है। 

स्वास्थ्य के प्रति जागरूकता का हीं एक हिस्सा है क्योंकि हाथ की धुलाई से बीमारियों से बचा जा सकता है और यह बेहतर स्वास्थ्य की ओर एक अच्छी पहल है। हर व्यक्ति को स्वास्थ्य के प्रति इन छोटी-छोटी बातों के प्रति सजग होना चाहिए, ताकि हम एक स्वस्थ समाज का निर्माण कर सकें।

No comments