आंगनबाड़ी केंद्र में सही तरीके से योगदान ना देने पर ग्रामीणों ने जताया आक्रोश

 


राजमहल संवाददाता:-आंगनबाड़ी केंद्र में सही तरीके से योगदान ना देने ग्रामीणों ने जताया आक्रोश राजमहल प्रखंड क्षेत्र अंतर्गत कसवा पंचायत के इंग्लिश गांव स्थित आंगनबाड़ी केंद्र संख्या 607 के  हमेशा बंद रहने पर ग्रामीणों ने विरोध प्रकट किया और सेविका पिंकी देवी का आंगनबाड़ी केंद्र में सही तरीके से योगदान ना देने के कारण पिछले डेढ़ वर्षो से उक्त आंगनबाड़ी केंद्र बंद रहा. सहायीका मीना देवी ने कुछ दिनों तक बच्चों को के निजी रूपए से चाकलेट, बिस्कुट दे कर पढ़ाया करतीं थी. लेकिन बच्चों, गर्भवती महिलाओं और धात्री माताओं को उचित टीएचआर पोषाहार व अन्य लाभ ना मिलने के कारण उक्त आंगनवाड़ी केंद्र डेढ़ वर्षो तक बंद पड़ा रहा. सहायिका द्वारा ही बीच-बीच में आंगनवाड़ी केंद्र खुलता रहा. आंगनवाड़ी केंद्र सही तरीके से चलने को लेकर 3 माह पूर्व सैदपुर पंचायत का मुन्नापटाल आंगनबाड़ी केंद्र संख्या 716 की सेविका रानी देवी को प्रभार दिया गया. लेकिन इंग्लिश गांव की महिला लतिका देवी, सोकिता देवी, पारूल देवी, बबीता देवी, सुमन देवी ने दूसरे पंचायत की सेविका को प्रभार देने पर आपत्ति जताई है. महिलाओं ने सेविका पर आरोप लगाते हुए कहा है कि वैश्विक महामारी कोरोनावायरस के कारण लगी लॉकडाउन में हमे सीर्फ राशन नहीं मीला और ना ही हमे किसी भी चीज की जानकारी दी जाती है. इस संदर्भ में डीपीओ अलका हेम्ब्रम ने बताया कुछ दिन पहले ही दूरभाष के माध्यम से सीडीपीओ से वार्तालाप करके सेविका को बदलने का निर्देश दिया गया था. पुनः आज लिखित आवेदन देकर पास के ही सेविका को प्रभार देने का निर्देश जारी किया जा रहा है. सीडीपीओ ज्योति का टप्पो का कहना है ग्रामीणों द्वारा लगाया गया आरोप निराधार है.


No comments