5 अक्टूबर को राष्ट्रीय डॉल्फिन दिवस मनाने को लेकर बुधवार को राष्ट्रीय वेबीनार का अयोजन


साहिबगंज:-भारतीय वनजीव संस्थान देहरादून के सौजन्य से 5 अक्टूबर को राष्ट्रीय डॉल्फिन दिवस मनाने को लेकर बुधवार को राष्ट्रीय वेबीनार का आयोजन किया गया।जिसमें साहिबगंज महाविद्यालय के राष्ट्रीय सेवा योजना के वालंटियर एवं छात्र छात्राएं व गंगा प्रहरी व डॉल्फिन मित्र जुड़कर डॉल्फिन के सुरक्षा संरक्षण व संवर्धन के लिए डॉल्फिन के महत्व पर विमर्श चर्चा की गई।वही मौके पर डॉ रंजीत कुमार सिंह ने कहा राज्य के मात्र साहिबगंज जिला जहां से गंगा गुजरती है वर्तमान समय में डॉल्फिन पाए जाने से क्षेत्र वासियों में खुशी है साथ ही वन विभाग द्वारा इसको लेकर प्रस्ताव बनाकर सरकार में भेजा गया है। साहिबगंज में इको टूरिज्म की अपार संभावनाएं हैं एक ओर  गंगा तो दूसरी ओर हिमालय से पुरानी राजमहल की पहाड़ी अवस्थित है राष्ट्रीय जलीय जीव गांगेय डॉल्फिन के प्रति साहिबगंज में दिलचस्पी बढ़ी है स्थानीय लोगों में खासकर साहिबगंज गंगा घाट राजमहल गंगा घाट सकरी गली गंगा घाट समदा नाला आदि घाटों पर डॉल्फिन की अठखेलियां देखने के लिए एक अच्छा स्पोर्ट्स बन रहा है गंगा में डॉल्फिन मिलने का सबसे बड़ा सुखद बात यह है कि जल स्वच्छ व शुद्ध होगा तभी वह पाया जा सकता है।बाढ़ के कारण जलस्तर बढ़ने से गंगा किनारे तक और सड़क के लोग गंगा नदी में डॉल्फिन जिसे सोंस भी कहते हैं मस्ती करते हुए देखा जा सकता है।डॉ सिंह ने कहा कि गंगा नदी में गाद के कारण गंगा नदी की गहराई कम होने से चिंता जताई।ऑनलाइन वेबीनार में वन जीव संस्थान से डॉ संगीता अंगोम,एस ए हुसैन,विद्या दास गुप्ता,गौरा चंद्र दास,रुचि बडोला, मोनिका मेहरूला सहित कई अन्य लोग जुड़े हुए थे।

No comments