झारखंड राज्य मनरेगा कर्मचारी संघ द्वारा जारी अनिश्चितकालीन हड़ताल का 38 वां दिन बाद सरकार के बीच द्विपक्षीय वार्ता पूर्णतः विफल रहा


नारायणपुर जामताड़ा।झारखंड राज्य मनरेगा कर्मचारी संघ द्वारा जारी अनिश्चित कालीन हड़ताल का 38वा दिन बाद आज संघ और सरकार के बीच द्विपक्षीय वार्ता पूर्णतः विफल रहा ।वार्ता विफल का पूरा श्रेय मनरेगा  आयुक्त सिद्धार्थ त्रिपाठी हैं ।उक्त बातें अखिल भारतीय युवा संगठन के झारखंड प्रदेश अध्यक्ष सह झारखंड राज्य  मनरेगा कर्मचारी संघ जिला कमिटि जामताड़ा के संरक्षक तरूण कुमार मंडल  ने कहा।उन्होंने कहा कि  आज मनरेगा  और मनरेगा कर्मी को बद से  बदतर स्थिति का जिम्मेदार सिर्फ मनरेगा आयुक्त है ।मनरेगा  एक्ट के विरुद्ध कार्य करवाने वाले मनरेगा  आयुक्त पूर्व सरकार का एक खोटा सिक्का है जो वर्तमान राज्य सरकार के विभागीय मंत्री जी को लिखा पढाकर  और खिला पिलाकर राज्य सरकार के मुखिया एवं  उनके साफ स्वच्छ छबि के साथ साथ सुशासन व्यवस्था को बदनाम कर रही है ।उन्होंने कहा वार्ता विफल होने के कारण हड़ताल जारी रहेगा, जब तक संघ की पाँच सूत्री माँगो पर सकारात्मक बिचार व लिखित रूप से मिल नहीं जाता ।उन्होंने कहा अब संघ के द्वारा पुतला दहन, विधायक, सांसद, मंत्री का आवास घेराव किया जाएगा।


पिन्टू कुमार की रिपोर्ट।

No comments