समाजसेवी की अनूठी मिसाल पेश कर रहे और युवाओं के लिए अप्रतिम उदाहरण है मुकेश कुमार मिश्र उर्फ मिक्कू


ब्यूरो रिपोर्ट। गोड्डा मेहरमा कसबा
 ये माना की गुलशन को गुलजार न कर सकेंगे।
कुछ खार तो कम होंगे निकलेंगे जिधर से हम।
उक्त बातों चरितार्थ करते हुए अपने बेहतरीन प्रयासों से समाज सेवा में तल्लीन  इस शख्सियत ने समाज को नई दिशा देने का प्रयास किया है।बेमिसाल कदम से समाज सेवा का बीड़ा उठाने वाले यह समाज सेवी युवाओ के लिए प्रेरणा स्रोत भी बनते जा रहे है।अपने प्रत्येक प्रयास से समाजसेवा को जारी रखते हुए एक बेहतर मुकाम भी हासिल कर चुके है।जिनके कार्यो की सराहना हर बार होती है।जी हाँ हम बात कर रहे है।
 कसबा गांव निवासी मुकेश कुमार मिश्र उर्फ मिंकू की  जो अपने लगन एवं दृढ़ विश्वास के बूते जाति, धर्म से ऊपर  उठकर समाज को सही दिशा एवं दशा देने के प्रयास में जुटे रहते है। सेवा कार्यो की बात की जाए तो आकड़ो इनकी समाजसेवा के प्रति लगन एवं निष्ठा को बयां करते है। वर्षों से  मुकेश मिश्र ने गरीबो के लिए  हमेशा सेवार्थ समर्पित रहते ह।युवाओ में आपसी एकता भाईचारा बना रहे इसलिए नौजवानों के हर कार्यक्रम जैसे गांव और पंचायत मे वृक्षा रोपन खेलकूद,सांस्कृतिक कार्यक्रम ,सम्मान समारोह , आयोजित कराते रहते है
 युवा इनसे जुड़कर गौरवान्वित महसूस कर रहे है।
गरीब एवं निर्धन तबके के लोगो को स्कूली, ड्रेस,पेन,पेन्सिल,कॉपी,किताब का वितरण भी समय समय पर करते रहते है।।जिससे गरीबो की शिक्षा-दीक्षा बाधित न हो और समाज शिक्षित हो सके।ऐसे में आप अंदाज लगा सकते है कि मुकेश कुमार मिश्र उर्फ मिंकू का समाजसेवा के प्रति जज्बा कितना बेमिसाल है और वह अपनी बेहतरीन सोच और लगन के बूते समाज को एक मिसाल देने में लगे हुए है।समाजसेवी के नाम से विख्यात  मिंकू  का प्रत्येक कदम मानवता की बेहतरी मिसाल साबित होता जा रहा है।इनके द्वारा दिव्यांगों को भी नई दिशा देने का कार्य किया जा रहा है उनका कहना है कि बहुत जल्द ही एक ट्रस्ट  की स्थापना कर के उसके माध्यम से शोषित, वंचित एवम समाज के निचले पायदान वालो को मूलधारा में लाने का प्रयास कर रहे है और करते रहेगे ।

No comments