सैंकड़ो की संख्या में ग्रामीण पहुंचे थाना, कहा किसी भी हाल में नही करने देंगे खदान

 



सैंकड़ो की संख्या में ग्रामीण पहुंचे थाना, कहा किसी भी हाल में नही करने देंगे खदान


दुमका शिकारीपाड़ा थाना क्षेत्र  अवैध पत्थर उत्खनन को लेकर हमेशा चर्चित मैं रहता है। नियम कानून को ताक में रखकर बेखौफ पत्थर माफिया पत्थर उत्खनन करने में जुटे हुए रहते है। शिकारीपाड़ा थाना क्षेत्र के मोहल बोना गांव का एक  ऐसा ही मामला सामने आया है। इस गांव में एक पत्थर माफिया खदान की खुदाई करने से बाज नही आ रहे थे मना करने के बावजूद भी जबरजस्ती खुदाई कर रहे थे।जिससे ग्रामीण भड़क उठे।और खदान की खुदाई बन्द कराने के लिए सीधा शिकारीपाड़ा थाना सेकड़ो ग्रामीण पहुंच गए। और जमीन बचाने के लिए ग्रामीणों ने गुहार लगाई ।साथ ही ग्रामीणों का कहना है कि किसी भी हाल में हमलोग यहां खदान करने नही देंगे।हमारे छोटे छोटे बच्चे है।और हमलोग अत्यंत गरीब है।अगर हमारी जमीन पर खदान हो जाएगा तो हमलोग कहा जाएंगे।हमारे आने वाले पीढ़ी दर दर भटकने को मजबूर हो जाएगा।पूरा इलाका तो अवैध खदान से भरा पड़ा हुआ है।थोड़ी जमीन बची हुई है।जिससे हमलोग खेती कर अपना जीवन यापन करते है।वो भी खत्म हो जाएगा।जल जंगल जमीन ही हमारी सब कुछ है।शिकारीपाड़ा थाना क्षेत्र के मकड़ा पहाड़ी, मंझलाडी ,नांगल भंगा, सहरपुर, निझोर इन इलाकों बड़े पैमाने पर अवैध खनन हो रहा है। नियम कानून की धज्जियाँ उड़ाते हुए बेखौफ होकर पत्थर माफिया जुटे हुए है पत्थर उत्खनन करने में।साथ ही पड़े पैमाने पर ट्रक पर लोडिंग कर सीधा बंगाल सप्लाई किया जाता है। जिससे राजस्व को भारी नुकसान हो रहा है।

दुमका से राजा की रिपोर्ट

No comments