लाखों की लागत से बना पुल बरसात में हुआ ध्वस्त,ग्रामीणों को हो रही परेशानी



 बारिश के एक ही झटके में धँसा पुल । 



उधवा/साहिबगंज : लाखों रुपये की लागत से बना पुल बारिश में बहा तो कई गाँव के रास्ते बंद हो गए थे । इससे पंचायत के अन्य जनप्रतिनिधि सह ग्रामीण ने पुल के बहे हुए भागों को किसी तरह मिट्टी भरकर साथ ही पुल के धँस जाने से निकले हुए पत्थरों को किसी तरह निकल कर वही धँसे हुए भाग में मरम्मती कर रास्ते को चलने लायक बनाया है । इस तरह से की गई मरम्मत से इस रास्ते पर हमेशा दुर्घटना की आशंका बनी रहती हैं । लेकिन जिम्मेदार उनके समस्या पर गंभीरता नहीं दिखा रहे हैं । हम बात कर रहे हैं प्रखंड क्षेत्र के पंचायत पूर्वी प्राणपुर के मोरतुज टोला समीप पुराना बाज़ार तक जाने वाले सड़क में बने हुए पुल का । हजारों की आबादी वाले इन गांवो के लोगों को पुराना बाज़ार के पास से निकलने का रास्ता था । जिसमें बरसात के पानी बहाव के कारण लोगों के आवाजाही में कई प्रकार की दिक्कतें आ रही थी । जहाँ ग्रामीणों को आवाजाही का सुगम रास्ता बनाने के लिए यह पुराना बाज़ार के निकटवर्ती पुल बनाया गया था । लेकिन पुल हल्के-फुल्के बारिश के झटके में ही बह जाने से रास्ता बंद हो गया था । इससे ग्रामीणों ने पुल के बहे हुए हिस्से पर ईंट, पत्थर , मिट्टी देकर रास्ता बनाया और उसी रास्ते से ग्रामीण चलने के लिए मजबूर हैं । जहाँ से बाइक निकलने के लिए ग्रामीणों को इस हिस्से पर बाइक को हाथों से उठाकर पार करना पड़ता था । जिसके लिए चार-पाँच व्यक्तियों की जरूरत पड़ती थी । इस रास्ते से निकलने से ग्रामीणों में दुर्घटना का आशंका हमेशा बनी रहती हैं । ग्रामीण अताउर शेख , इमाम शेख , बसर शेख आदि के मुताबिक लाखों रुपए की लागत से बनाया गया यह पुल दो बरसात भी नहीं टिक पाई  हैं । एक बरसात पार कर दूसरी बरसात में पुल अपना दम तोड़ दी। जिसका एक हिस्सा लगभग दूसरी बरसात के पहले ही हल्के फुल्के बारिश में ही बह गया । इससे निर्माण में बरती गई लापरवाही ,अनिमियत्ता का खामियाजा ग्रामीणों को परेशान हो कर भुगतना पड़ रहा हैं । लेकिन जिम्मेदार अधिकारी उनकी इस समस्या पर गंभीरता का कोई ठोस पहल नहीं दिखा रहे हैं ।
क्या कहते हैं पंचायत के मूखिया: 
पुल निर्माण में एस्टीमेट 3/4 का था , लेकिन इससे थोड़ा ज्यादा पुल ऊँचा हो गया है । हो सकता हैं ,  जिससे गाड़ी के यातायात से पुल धँस गया है । जिसके लिए हम मिट्टी-वुट्टी भरवाएं हैं , और अभी बारिश में तो इसको पूरी तरह ठिक नहीं किया जा सकता हैं। बरसात खत्म होते ही इसको सही से ठीक कर दिया जाएगा ।


No comments