उधवा में सरकारी लाभों से वंचित है दिव्यांग फरीदा खातून



अभी-भी सरकारी लाभों से वंचित हैं इस क्षेत्र के दिव्यांग


उधवा/साहिबगंज : जिला के पिछड़े प्रखण्डों में से एक उधवा प्रखंड भी गिने-चुने  में माने जाते हैं । जिसका ग्रामीण क्षेत्र में अभी-भी विकास कोषों दूर नजर आ रहा है । राज्य सह केंद्र सरकार द्वारा कई प्रकार के कल्याणकारी योजनाएं दिव्यांगों के लिए चलाई जा रही हैं । लेकिन इसके बावजूद भी उधवा प्रखण्ड ग्रामीण क्षेत्रों की मूलनिवासी , गरीब , महिलाओं , पुरुषों , बच्चे आदि इन सभी सरकार की कल्याणकारी योजनाओं से बहुत सारे लोग वंचित हैं , और क्षेत्र के दिव्यांग पर वे अपने आप को कोस रहे हैं। साथ ही वे अपनी क्षेत्र की विकलांगताग्रसित होने पर आँसू बहा रहे हैं । सरकार भले ही दिव्यांगों के लिए करोड़ो अरबों रुपए खर्च कर रहे हैं , उनके उत्थान के लिए तीन पहिया वाली साइकिल , मोटरसाइकिल , माइक्रोफ़ोन , प्रधानमंत्री आवास योजना , विकलांग पेंशन , वैशाखी छात्रवृत्ति , आदि योजनाएं पर करोड़ों रुपए खर्च करने के बाद भी सुविधाओं के लाभ से दिव्यांग कोसो दूर हैं । ऐसे ही उधवा प्रखंड क्षेत्र की पश्चिम प्राणपुर के याद अली टोला गाँव के सामु शेख के पुत्री फरीदा खातून 20 साल जो दोंनो पैरों से अपाहिज हैं । वे चल नहीं सकते । वे बैठे हुए खिसक खिसक कर घर से बाहर ,  बाहर से घर तक ही उनका चलना फिरना होता हैं । साथ ही उन्होंने इस तरह की अपहिजता को कठोर जवाब देते हुए , विभिन्न प्रकार की मुसीबतों की सामना करते हुए अपनी नजदीकी सरकारी स्कूल से पढ़ाई भी पूरी की है । और इनकी पढ़ने की इच्छा आगे और भी है , लेकिन उनके सामने आर्थिक स्थिति , यातायात साधन , दिव्यांग पेंशन न मिलना , सरकार की किसी भी तरह की योजनाओं से लाभ नहीं  मिलने के कारण उनके लिए एक मुसीबत खड़ी हो गई  हैं । जिससे वे अपनी पढ़ाई जारी रखने में अपनी मनोवल को सख्त नहीं कर पा रहे हैं । उनके पिताजी का कहना है कि वे सरकार की विकलांगो के लिए विभिन्न प्रकार की योजना कि लाभ प्राप्त करने के लिए विभिन्न जगहों पर गया है , बावजूद लाभ मिल न सका । किसी ने अबतक पुर-ज़ोर से ध्यान नहीं दिया जिसके चलते ऐसे सैकड़ो विकलांग इन सभी सुविधाओं से वंचित रह गए हैं ।


No comments