चीनी कंपनी वीवो के आईपीएल टाइटल स्पांसरशिप छोड़ने पर फ्रेंचाइजीयों को होगा भारी नुकसान, फ्रेंचाइजीयों ने कहा बीसीसीआई करें नुकसान की भरपाई





 देवघर ब्यूरो रिपोर्ट- देश में कोरोना वायरस के लाखों मामलें को देखते हुए आईपीएल के  13वें सीजन की शुरुआत 19 सितंबर से यूएई में होने जा रहा है। टूर्नामेंट का फाइनल मैच 10 नवंबर को खेला जाएगा ।इस बार चीनी कंपनी वीवो ने आईपीएल की स्पांसरशिप छोड़ दी है ऐसे में बीसीसीआई और आईपीएल फ्रेंचाइजीयों के  सामने वित्तीय समस्या खड़ी होगयी है। आईपीएल शुरू होने में अब सिर्फ कुछ ही दिन बचे है ऐसे में बीसीसीआई और आईपीएल फ्रेंचाइजीयों के बीच कई मुद्दों पर सहमति नहीं बन पाई है। आईपीएल के टाइटल स्पांसरशिप से वीवो के हटने के बाद दोनों के बीच काफी तनातनी है। स्पांसरशिप छूटने के बाद फ्रेंचाइजीयों को भारी नुकसान की आशंका है। जिसको लेकर बुधवार को सभी फ्रेंचाइजीयों की बैठक आयोजित हुई, जिसमें फ्रेंचाइजीयों का साफ कहना है कि वे इतना बड़ा नुकसान नहीं उठा सकते है। वहीं एक फ्रेंचाइजी ने तो यह भी कहा कि बीसीसीआई उन्हें होने वाले नुकसान की भरपाई करें।वहीं एक फ्रेंचाइजी का कहना है कि सीपीएल से लौटे खिलाड़ियों  को क्वारंटाइन नियमों में छूट दी जाए। वहीं फ्रेंचाइजीयों ने बीसीसीआई से कुछ डिमांड रखी है। लेकिन उस डिमांड को अकेले  बीसीसीआई पूरा नहीं कर सकती है । क्योंकि आईपीएल के 13वें सीजन के लिए एसओपी बीसीसीआई और यूएई ने मिलकर तैयार की है।इसलिए जब तक यूएई इन डिमांड को पूरा करने के लिए राजी नहीं होजाता तब ऐसा कुछ संभव नही है। वहीं एक अधिकारी ने यह भी बताया कि ऐसे मामलों में आखिरी और अंतिम फैसला बीसीसीआई का ही होता है ।बीसीसीआई का निर्णय ही सर्वमान्य होगा। इसके अलावा बीसीसीआई और आईपीएल गवर्निंग के बीच सबकुछ ठीक नहीं चल रहा है, कुल मिलाकर आईपीएल की तारीख जैसे जैसे नजदीक आएगी सारी आशंकायें दूर होती जाएगी।

No comments