बाढ़ राहत बचाव के लिए प्रशासन ने कसी कमर


बाढ़ से निपटने की तैयारियों की समीक्षा बैठक

साहिबगंज:--अपर समाहर्ता ने अपने कार्यालय प्रकोष्ठ में सभी अंचलाधिकारियों के साथ ज़िले में बाढ़ के खतरे से निपटने हेतु प्रखण्ड की तैयारियों की समीक्षा की।मानसून आगमन के साथ ही ज़िले में बाढ़ का खतरा मंडराने लगा है। बाढ़ राहत व बचाव कार्य को लेकर प्रशासन ने कमर कसना शुरू कर दिया है। अपर समाहर्ता अनुज कुमार प्रसाद ने कहा कि झारखंड के एक मात्र ज़िला गंगा तट के किनारे अवस्थित है। ऐसे में प्रत्येक वर्ष यहां बाढ़ का खतरा मंडराता है।उन्होंने सभी अंचलाधिकारी को निर्देश दिया की वह बाढ़ राहत व बचाव कार्य के लिए तैयारी शुरू कर दें।
उन्होंने बाढ़ से प्रभावित होने वाले प्रखंड, पंचायत, गाँव व दियारा इलाकों का आंकलन करने का निर्देश दिया। साथ ही कहा कि ऐसे इलाकों में लगाए जाने वाले राहत शिविर, विद्युत आपूर्ति, स्वच्छ पेयजल की उपलब्धता, राहत सामाग्री, पशु चारा, नाव, नाविक, गोताखोरों की संख्या, चिकित्सा सुविधा व फसल क्षति व सुरक्षा व्यवस्था का आंकलन कर जल्द से जल्द रिपोर्ट समर्पित करें,ताकि जिला प्रशासन इसके लिए पूर्व से तैयारी नकर सके।अपर समाहर्ता श्री प्रसाद ने कहा कि सभी प्रखण्ड राहत शिविर तथा तथा आश्रय स्थल को चिन्हित कर लें ताकि ससमय वहां व्यवस्थओं को दुरुस्त किया जा सके।बैठक में विधुत विभाग को निर्देश दिया गया कि वह झूलते हुए तारों को व्यवस्थित कर लें।मौके पर सिविल सर्जन डॉ डीएन सिंह, सदर डीएसपीओ राजा कुमार मित्रा, ज़िला कृषि पदाधिकारी उमेश तिर्की सहित सभी अंचलाधिकारी मौजूद थे।

साहिबगंज से देव आर्यन की रिपोर्ट।

No comments