जिला कांग्रेस कार्यालय में महान क्रांतिकारी बिरसा मुंडा जी की पुण्यतिथि पर श्रद्धांजलि दी गई


देवघर:महान क्रांतिकारी, आदिवासी जननायक,धरती आवा भगवान बिरसा मुंडा जी की पुण्यतिथि जिला कांग्रेस कार्यालय में उनके तस्वीर पर श्रद्धा सुमन अर्पित कर विनम्र श्रद्धांजलि दी गई।15 नवंबर 1875 में जन्मे  महामानव विरसा मुंडा का शहादत 9 जून 1900ई0 को हुआ था। श्रद्धांजलि सभा में बिरसा मुंडा के महान कार्यों एवं अंग्रेजी साम्राज्य के विरुद्ध किए गए आंदोलन को याद किया गया। विरसा उलगुलान सिर्फ देश को अंग्रेजी हुकूमत से मुक्ति दिलाना ही नहीं था बल्कि देश में ब्यापक रुप से फैले शुद्ध खोरी, जमीदारी प्रथा, वर्ण व्यवस्था, साहूकारों एवं दलालों से मुक्त कराना भी था।उनका कहना था कि व्यक्तियों को मारा जा सकता है परंतु उसके विचारों को नहीं मारा जा सकता। वह अजर-अमर रहता है। आज भी महामानव  विरसा के विचार संपूर्ण आदिवासी समाज को सही मार्ग पर चलना सिखाता है। शुर वीरों की भूमि झारखंड जहां जर्रे जर्रे में शहीदों के गीत गाए जाते हैं। दिलो-दिमाग में विरसा आज भी जिंदा है। आजादी के दीवाने विरसा के उलगुलान से सपना था कि आदिवासी समाज पर तरह-तरह के अत्याचार, अन्याय, शोषण और दमन से मुक्त किया जा सके। आदिवासियों को जल, जमीन और जंगल की सुरक्षा के साथ आदिवासी अस्मिता,उनकी पहचान,नारी सुरक्षा,सांस्कृतिक मर्यादा की रक्षा करना मुख्य उद्देश्य था। इनकी जयंती पर झारखंड राज्य का स्थापना भी हुआ। विरसा के अदम साहसी,उलगुलान, और हुल को झारखंड वासी कभी भुला नहीं सकते हैं। श्रद्धांजलि सभा में वरिष्ठ उपाध्यक्ष प्रो. उदय प्रकाश, पूर्व जिलाध्यक्ष राजेंद्र दास, अजय कुमार,मिडिया प्रभारी दिनेश मंडल,मोहम्मद मोबीन उल हक,मकसूद आलम, कन्हैया कुमार, चंदन कुमार आदि ने सोशल डिस्टेंस का अनुपालन करते हुए कार्यक्रम में भाग लिया। भवदीय दिनेश कुमार मंडल मीडिया प्रभारी देवघर जिला कांग्रेस

No comments