प्रवासी मजदूर को उनकी योग्यता के अनुसार जिले में ही मुहैया कराया जाएगा रोजगार उपायुक्त


देवघर ब्यूरो रिपोर्ट।उपायुक्त सह जिला दण्डाधिकारी नैन्सी सहाय की अध्यक्षता में *District Livelihood Converence Committee*  बैठक समाहरणालय सभागार में आयोजित की गयी।
बैठक के दौरान उपायुक्त श्रीमती नैन्सी सहाय के द्वारा जानकारी दी गयी कि बाहर से आने वाले देवघर जिला के श्रमिकों को रोजगार दिलाने के उद्देश्य से इस कमिटि का गठन किया गया है, ताकि सरकारी व गैर सरकारी संस्था आपसी समन्वय स्थापित करते हुए ज्यादा से ज्यादा रोजगार का सृजन जिले में हीं हो सके। मनरेगा योजना के अलावा सरकार व जिला प्रशासन की पहली प्राथमिकता है कि ज्यादा से ज्यादा रोजगार श्रमिकों को अपने जिले में हीं दिया जा सके।
इसके अलावे बैठक के दौरान उपायुक्त ने कहा कि जिले में अबतक 9838 प्रवासी श्रमिकों को रजिस्ट्रड कर डाटा बेस तैयार किया गया है, ताकि उन्हें उनकी योग्यता के अनुसार रोजगार मुहैया कराया जा सके। इस हेतु जरूरी है कि जिला प्रशासन के द्वारा तैयार मास्टर प्लान के अनुरूप आप सभी के सहयोग से प्रवासी श्रमिकों को रोजगार दिया जा सके। एम्स, एयरपोर्ट, प्लास्टिक पार्क के अलावा विभिन्न विकास योजनाओं से प्रवासी श्रमिकों को जोड़ने का कार्य जिला प्रशासन द्वारा किया जा रहा है। ऐसे में आप सभी गैर सरकारी संस्थाओं से भी अपील है कि कोरोना काल में जिस प्रकार आपसबों में सहयोग किया है, वैसे हीं आगे भी प्रवासी श्रमिकों के सहयोग में जिला प्रशासन की मदद करें। लाॅकडाउन के बाद देवघर जिला अंतर्गत बड़े-छोटे कई कल कारखाने खोले जा रहे है। ऐसे में बाहर के श्रमिकों की जगह देवघर जिले के श्रमिकों प्राथमिकता के आधार पर कार्य देकर उन्हें बेहतर रोजगार से जोड़ा जा सकता है।
इसके अलावे बैठक के माध्यम से उपायुक्त श्रीमती नैन्सी सहाय ने राज्य व जिलों से लौटे प्रवासी श्रमिकों से अपील करते हुए कहा कि मनरेगा के तहत अधिक संख्या में जॉब कार्ड बनाकर जिले के अंदर ही रोजगार प्राप्त करें ताकि कोई भी व्यक्ति का परिवार भूखा न रहे एवं उन्हें आर्थिक परेशानी का सामना करना न पड़े। जिला प्रशासन लगातार प्रयासरत है कि मनरेगा योजना के अलावा भी प्रशिक्षित श्रमिकों को अन्य रोजगार के माध्यम से जोड़ा जा सके।
*■ देवघर जिला अंतर्गत विभिन्न प्रखण्डों में सूचीबद्ध श्रमिकों की संख्या-*
1. सोनारायठाड़ी-382, 2. मोहनपुर-1680, 3. मारगोमुण्डा-838, 4. मधुपुर-735, 5. सारठ-604, 6. पालोजोरी-998, 7. करौं-1002, 8. देवीपुर-2313, 9. देवघर-712, 10. सारवां-574 है।
*इस दौरान उपरोक्त के अलावे* उप विकास आयुक्त शैलेन्द्र कुमार लाल, निदेशक लेखा प्रशासन एवं स्वनियोजन, जि0ग्रा0वि0अभि0, देवघर, नयनतारा केरकेट्टा, अपर समाहर्ता श्री चंद्र भूषण प्रसाद सिंह, वन प्रमंडल पदाधिकारी,  नागेन्द्र नाथ देवनाथ, वन प्रमंडल पदाधिकारी, समाजिक वानिकी, देवघर, महाप्रबंधक जिला उद्योग केन्द्र,  सैमरोम बारला, जिला जनसम्पर्क पदाधिकारी रवि कुमार, जिला खनन पदाधिकारी  राजेश कुमार, जिला योजना पदाधिकारी, देवघर, कार्यपालक अभियंता, ग्रा0वि0वि0 प्रमंडल, देवघर, कार्यपालक अभियंता, एनआरपी, देवघर, कार्यपालक अभियंता, ग्रामीण कार्य प्रमंडल, देवघर, कार्यपालक अभियंता, पथ प्रमंडल, देवघर, कार्यपालक अभियंता, रा0उ0 पथ प्रमंडल, देवघर, सचिव जियाडा, देवघर, जिला नियोजन पदाधिकारी, देवघर, सहायक श्रम आयुक्त, देवघर, जिला कृषि पदाधिकारी, देवघर, जिला उद्यान पदाधिकारी, देवघर, प्रबंधक जेएसएलपीएस, देवघर, जिला मत्स्य पदाधिकारी, देवघर, जिला भूमि संरक्षण पदाधिकारी, देवघर, प्रबंधक/प्रतिनिधि ए0ए0आई0, प्रबंधक प्रतिनिधि, एम्स देवघर, अध्यक्ष/सचिव, संथाल परगना चैम्बर्स ऑफ काॅमर्स, देवघर, अध्यक्ष/सचिव, देवघर चैम्बर्स ऑफ काॅमर्स, अध्यक्ष/सचिव, स्पायडा, देवघर, क्षेत्रिय उपाध्यक्ष, संथाल परगना चैम्बर्स ऑफ काॅमर्स, देवघर, अध्यक्ष/सचिव संथाल परगना प्रक्षेत्र इंडस्ट्रीज एसोसिएशन, देवघर आदि उपस्थित थें।

No comments