पर्यावरण दिवस को लेकर बैठक का आयोजन

साहिबगंज: 5 जून को पर्यावरण दिवस मनाने को लेकर वन प्रमंडल कार्यालय में बुधवार को पार्यावर्णविदों की बैठक हुई। इसकी अध्यक्षता डीएफओ विकास पालीवाल ने की। बैठक में पर्यावरणविद डॉ रणजीत कुमार सिंह कहा कि विज्ञान और गणित की तरह  पर्यावरण भी अनिवार्य रूप से पाठ्यक्रम का हिस्सा बने। प्राथमिक कक्षाओं पर ही विधार्थियों को इसके महत्व का ज्ञान और उनकी जवाबदेही बतानी होगी। पर्यावरण सरंक्षण की प्रासंगिकता सिर्फ पर्यावरण दिवस 05 जून के इर्द गिर्द न घूमे। बल्कि इसके लिए वार्षिक अभियान की जरूरत है।21 वी सदी के लिये पर्यावरण सरंक्षण एक चुनौती पूर्ण कार्य है । जल संकट की विभत्स स्थिति से गुजरने वाले हैं। अगर समय रहते नहीं चेते तो आने वाले समय में शुद्ध वायु , शुद्ध जल मयस्सर नही होंगे।
साहिबगंज की धरती को प्रकृति ने अपने सर्वोत्तम आभूषणों से संजोया है, और हमने अपनी स्वार्थ सिद्धि के लिए प्राकृतिक संसाधनों का मनचाहा दोहन किया है। इस खूबसूरत धरा की हरियाली, अकूत खनिज संपदा और भूगर्भ जल का अत्यधिक दोहन कर क्षेत्र की भौगोलिक स्थिति और पारिस्थितिकी को बदल कर रख दिया है। पर्यावरण संरक्षण के लिए प्लास्टिक व पॉलीथिन फ्री साहिबगंज बनाने ज़रूरी है। इसके लिए एनजीओ व अन्य शैक्षणिक व सामाजिक संस्थानों को जोड़ कर अभियान चलाने की ज़रूरत है। जिला को प्लास्टिक व पॉलीथिन, थर्मोकोल फ्री जोन बनाने में जिला प्रशासन व  वन्य विभाग व एनएसएस महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहा है। सखुआ पत्ता प्लेट का उपयोग कर थर्मोकोल व प्लास्टिक की इंट्री रोकी जा सकती है। बैठक वन विभाग के पदाधिकारी व अन्य मौजूद थे।


साहिबगंज से देव आर्यन रिपोर्ट।

No comments