समाजसेवी शुभम द्वारा लगातार प्रवासी मजदूरों को कराया जा रहा है भोजन

ब्यूरो रिपोर्ट। कोविड-19 के कारण से फैलने वाली संक्रमण से बचाव के लिए लॉक डाउन की घोषणा के बावजूद अगर इस देश में सबसे ज्यादा मुश्किल का सामना किसी ने किया है तो वह हमारे देश के मजदूर हैं।दूसरे राज्यों से आने के बाद इन मजदूरों को अपने ही पंचायत अतः सरकार के द्वारा घोषित क्वॉरेंटाइन सेंटर में रखा जा रहा है।मध्य विद्यालय में बनाए गए क्वॉरेंटाइन सेंटर गांव के कई प्रवासी मजदूरों को क्वॉरेंटाइन किया गया है। इन लोगों के समक्ष खाने पीने की समस्या आ गई है ।मजदूरों की परेशानियों को देखते हुए। सारठ गांव के ही सामाजिक कार्यकर्ता शुभम कुमार सिन्हा ने प्रवासी मजदूरों के दर्द को अपना समझ कर 14 दिनों तक का दोनों समय का भोजन कराने का दायित्व उठाया जो काबिले तारीफ है। इन समाजसेवियों की जितनी तारीफ की जाए वह वाकई कम है।आज सोमवार को क्वॉरेंटाइन सेंटर में रह रहे प्रवासी मजदूरो  को उनके द्वारा अंडा चावल भोजन कराया गया।

No comments