1.0 से संबंधित दिशा निर्देश से संबंधित प्रेस कांफ्रेंस का आयोजन


अनलॉक 1.0 में खुलेंगी कई दुकानें

जिले के अंदर रिक्शा, टेंपो, ई-रिक्शा और नॉर्मल रिक्शा का परिचालन होगा

मुख्यमंत्री दीदी किचन के माध्यम से 10 लाख थाली परोसी गई असहाय एवं ग़रीब लोगों में

साहिबगंज जिला 96% निष्पादन रेट के साथ अव्वल स्थान पर है:

साहिबगंज में मिले तीनो कोरोना के मरीजों की स्थित सामान्य,उपायुक्त


साहिबगंज :--समाहरणालय स्थित सभागार में मंगलवार को उपायुक्त वरुण रंजन की अध्यक्ष्ता में लॉक डाउन अनुपालन,जिले में लॉक डाउन अवधि के दौरान हुए कार्यों की जानकारी एवं अनलॉक 1.0 से संबंधित दिशा निर्देश से संबंधित प्रेस ब्रीफ़िंग की गई।वहीं उपायुक्त ने प्रेस एवं इलेक्ट्रॉनिक मीडिया को संबोधित करते हुए कहा की पूरे देश मे लॉक डाउन का पांचवा चरण शुरू हो चुका है,जो अब अनलॉक 1.0 के नाम से जाना जाएगा तथा जिले में पिछले सभी चरण सफल रहे हैं।उन्होंने जिला प्रशासन की टीम को आभार प्रकट करते हुए कहा की जिले में कोरोना महामारी के फ़ैलाव को रोकने के तथा लॉक डाउन को सफल बनाने के लिए पुलिस के जवान, सफायी कर्मी, सेविका सहियाओं को धन्यवाद। उन्होंने इस पूरी प्रक्रिया मे जिला प्रशासन को अग्रणी कतार में खड़ा रखा है।उन्होंने बताया कि अभी तक साहिबगंज जिले में 3 कोरोना मरीज़ों की पुष्टि हुई है तथा उन्हें राजमहल कोविड अस्पताल शिफ्ट किया गया है सभी मरीज़ एसिम्प्टोमैटिक मरीज़ है तथा अभी उनकी स्थित सामान्य है।साहिबगंज में मिले तीनो मरीज़ों की कांटेक्ट ट्रेसिंग की जा चुकी है तथा उनके सैंपल टेस्ट के लिए भेजे जा चुके हैं।
वहीं जेल में रहे कोरोना मरीज़ की पहचान के बाद जेल को सेनेटाइज किया गया है।उन्होंने मीडिया से कहा अनलॉक 1.0 में झारखंड सरकार के दिशा निर्देश का अनुपालन जिले में किया जाएगा। तथा दिए गए निर्देश के अनुसार दुकानें खुल सकेंगी।
परन्तु सभी जगहों पर सोशल डिस्टेनसिंग का अनुपालन करना सुनिश्चित करना होगा।दुकान खोलने से पहले जिला प्रशासन को सूचना देना होगा,एवं राज्य सरकार ने जिन दुकानों का दिशानोर्देश जारी किया है उन्हें खोला जा सकेगा।
मीडिया के माध्यम से उपायुक्त वरुण रंजन ने जनता से अपील की लॉक डाउन की पूरी प्रक्रिया के प्रति लोग जागरूक हों एवं इसकी आवस्तकता समझे।तथा लोग अपनी जिम्मेदारी समझें, तथा प्रशासन को  सहयोग करें।उन्होंने लोगों से अपील की लोग मास्क पहने तथा सामाजिक दूरी का अनुपालन भी करें।प्रेस ब्रीफ़िंग में उपायुक्त ने बताया कि जिले में 24000 प्रवासी श्रमिक बाहर से लगातार आ चुके हैं तथा जिला प्रशासन बसों के जरिए हर रोज़ प्रवासी श्रमिक ला भी  रहा है।
एवं इसी क्रम में जिले में 24 हज़ार से ज़्यादा श्रमिकों  को लाया जा चुकाहै,तथा निजी वाहनों आदि के जरिये भी लोग जिले में आ रहे हैं।
उन्होंने मीडिया को संबोधित करते हुए कहा कि जिला प्रशासन प्रवासी श्रमिकों को लाने के लिए ठोस कदम उठा रहा है। तथा 3494  लोगों को सरकार के कोरेंटिंन में रखा गया है।तथा 9317 लोगों होम कोरेंटिंन में भेजा जा चुका है, होम कोरेंटिंन में जा रहे लोगों को  जिला प्रशासन 15 दिनों का  सुखा राशन भी दे रही है।तथा बाहर से आ रहे लोगों को कोरेंटिंन कार्ड निर्गत किया जा रहा है।उपायुक्त श्री रंजन ने मीडिया से बताया कि कोरेंटीन में आ रहे लोगों को वेलकम किट दिया जा रहा है।,तथा कोरेंटिंन सेंटर में 3 बार भोजन कराया जा रहा है।केंद्रों पर डॉक्टर की टीम द्वारा उनकी जांच की जा रही है। एवं प्रशासन द्वारा मेन्टल वेलनेस प्रोग्राम भी चलाये जा रहे हैं।उन्होंने कहा कि कोरेंटिंन सेंटर की बेहतरी के लिए जिला प्रशासन लगातार प्रयासरत है।उन्होंने बताया कि दीदी किचन तथा दाल भात केंद्र के अंतर्गत जिले में 24 हज़ार से ज़्यादा लोगों को प्रतिदिन भोजन कराया जा रहा है। एवं चलंत दाल भात केंद्र के ज़रिए भी भोजन कराया जा रहा है।उन्होने जानकारी दी कि सक्रीनिंग सेंटर बरहरवा तथा राजमहल में भी शुरू किया गया है,इसके अतितिक्त कोविड केअर सेंटर भी बनाया  गया है।
उन्होने अपने संबोधन में कहा कि मुख्यमंत्री दीदी किचन में अब तक दस लाख ग़रीब एवं असहाय लोगों के बीच थाली परोसी जा चुकी है तथा मुख्यमंत्री दाल भात योजना की अवधि 30 जून तक बढ़ा दी गयी है।उन्होंने मीडिया के माध्यम से आम नागरिकों से कहा कि बाहर से आते हुए श्रमिक दिखे तो तत्काल इसकी सूचना प्रशासन को दें इन्हें भोजन एवं वाहन की व्यवस्था भी जिला प्रशासन द्वारा किया जाएगा।उन्होंने मीडिया से मुखातिब होते हुए कहा कि जिला प्रशासन चाहता है सभी जिले वासी शकुशल अपने घर लौटे एवं
बाहर फंसे हुए जिले के लोग अपना धैर्य बनाये रखें झारखंड सरकार एवं जिला प्रशासन जिले वासियों को वापस लाने के लिए कटिबद्ध है।

खाद्यान आपूर्ति में कार्य:
प्रेस ब्रीफ़िंग में बताया गया कि जिला अंतर्गत पी एच एच और अंत्योदय अन्न योजना श्रेणी में कुल 950304 सदस्य सम्मिलित हैं। इन कार्ड धारियों को खाद्य सुरक्षा अधिनियम के तहत माह जून 2020 का पीएचएच कार्डधारियों को  प्रति सदस्य 5 किलोग्राम एवं अंत्योदय अन्न योजना कार्ड धारियों को प्रति कार्ड 35 किलोग्राम चावल गेहूं उपलब्ध कराया जा रहा है।साथ ही अंत्योदय कार्ड धारियों को 20-21 के प्रथम तिमाही अप्रैल-मई-जून हेतु प्रतिमाह 1 किलोग्राम के अनुसार 3 किलोग्राम चीनी 22.50 रुपये  प्रति किलोग्राम की दर से वितरण शुरू किया गया है।

प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना अंतर्गत चावल दाल वितरण योजना अंतर्गत प्रायोरिटी हाउसहोल्ड और अंत्योदय अन्न योजना के सभी कार्ड धारियों को प्रति सदस्य प्रतिमाह 5 किलोग्राम कि दर  से माह जून 2020 में एक माह का चावल निशुल्क वितरण 1 जून 2020 से किया जा रहा है साथ ही अप्रैल एवं मई माह के लिए प्रतिमाह 1 किलोग्राम दाल का भी वितरण किया जा रहा है।
 जिन प्रखंडों में जून का भी दाल प्राप्त हो गया है उन प्रखंडों में एक साथ तीन माह अर्थात अप्रैल-मई एवं जून 2020 की दाल का निशुल्क वितरण किया जा रहा है।

नॉन पीडीएफ लाभुक:
वैसे लोग जो खाद्य सुरक्षा अधिनियम से आच्छादित नहीं है लेकिन राशन कार्ड बनवाने की योग्यता रखते हैं जिला अंतर्गत वर्तमान में इस श्रेणी के 39800 परिवारों को आवेदन ऑनलाइन लंबित है कोविड-19 महामारी के मद्देनर विभागीय निर्देशानुसार ऐसे आवेदकों को प्रति परिवार 10 किलोग्राम चावल ₹10 में माह अप्रैल में 23375 तथा मई 2020 में 27187 परिवारों को वितरण किया जा चुका है।उक्त श्रेणी के लाभुकों को माह जून 2020 के लिए 10 किलोग्राम चावल निशुल्क वितरण जन वितरण प्रणाली विक्रेता के द्वारा स्पेशल राशन ऐप के माध्यम से किया जाना है।
मुख्यमंत्री दाल भात योजना मुख्यमंत्री दाल भात योजना अंतर्गत पूर्व से संचालित 9 स्थाई दाल भात केंद्र 15 विशेष दाल भात  केंद्र एवं पांच विशिष्ट दाल भात केंद्र कुल 29 केंद्रों द्वारा निशुल्क भोजन कराया रहा है।विभाग द्वारा इन सभी दाल भात केंद्रों की संचालन अवधी 30 जून तक बढ़ा दिया गया है।

जिले में आए प्रवसी  श्रमिकों को माह मई एवं जून 2020 के लिए 5 किलोग्राम चावल प्रति प्रवासी प्रतिमाह निशुल्क वितरण करने हेतु साहिबगंज जिला को कुछ 94501 क्विंटल चावल प्राप्त हुआ है तथा प्रवासी श्रमिक बाजार ऐप के माध्यम से अपना ऑनलाइन आवेदन करेंगे।
जिसमें वह आवश्यक जानकारियां एंट्री करेंगे सत्यापन के पश्चात उन्हें संबंधित डीलर स्पेशल राशन ऐप के माध्यम से 10 किलोग्राम चावल का वितरण किया जाएगा।
प्रवासी मजदूरों को माह मई एवं जून 2020 माह के लिए 2 किलोग्राम जना का भी वितरण किया जाना है।
राशन कार्ड का सत्यापन:
साहिबगंज जिला अंतर्गत डुप्लीकेट राशन कार्ड धारियों अयोग्य राशन कार्ड धारी की पहचान कर उन का कार्ड/सदस्य का नाम डिलीट करने हेतु सर्वेक्षण का कार्य प्रारंभ किया गया इसकी साथ-साथ अयोग्य श्रेणी के  लोगों द्वारा स्वेक्षा से अपना कार्ड प्रत्यर्पित करने हेतु आम सूचना का प्रकाशन भी कराया गया है।

इसके अलावे उपायुक्त ने बताया कि सुरक्षित साहिबगंज अभियान चलाया जा रहा है जिसमे शसेविका तथा सहियाओं  की मदद से घर-घर जाकर सर्वे किया जा रहा है स्थानीय जन प्रतिनिधि कि मदद से सोशल पुलिसिंग की टीम गठित की गई है जिसमें हर व्यक्ति 10 लोगों पर निगरानी रखेगा।एस ए जी की महिलाओं की मदद से समाज में जागरूकता फैलाया जा रहा है तथा यह सुनिश्चित कराया जा रहा है कि लोग अपने घर में हैं वह लोगों को अपने घरों में रहने के लिए प्रेरित भी कर रही हैं।उन्होंने बताया कि जिले में 1400 से लोगों के टेस्ट के लिए सैंपल भेजा जा चुका है तथा जिले में एक ट्रू नेट मशीन के अलावा दूसरे ट्रू नेट मशीन की व्यवस्था की जा रही है।फ़ूड ग्रेन बैंक के माध्यम से 2000 लोगों को राशन दिया गया है।
दीदी किचन में 10 लाख  लोगों को भोजन कराया गया है कंट्रोल रूम के माध्यम से हर रोज शिकायतें प्राप्त हो रहे हैं जिनका 24 घंटों के भीतर जिला प्रशासन निदान कर रही है राज्य कंट्रोल रूम में साहिबगंज जिला 96% निष्पादन रेट के साथ अव्वल स्थान पर है।उपायुक्त रंजन ने मीडिया को संबोधित करते हुए कहा कि जिला प्रशासन द्वारा पैदल आने वाले प्रवासी मजदूरों के लिए भी कई व्यवस्थाएं की गई है उन्होंने कहा चेक नाका पर पैदल आ रहे प्रवासी मजदूरों के लिए शेल्टर होम्स बनाए गए हैं।इसमें उनके खाने-पीने एवं सोने की व्यवस्था की गई है।  तथा उनके गंतव्य तक छोड़ने के लिए वाहनों की व्यवस्था भी कराई जा रही है।
 कई मौकों पर जिला प्रशासन दूसरे राज्यों एवं जिलों से संपर्क कर उन्हें उनके गंतव्य तक छोड़ने का कार्य भी कर चुकी है।प्रेस कॉन्फ्रेंस में बताया गया कि  साहिबगंज जिले में 30 अप्रैल से प्रतिदिन 30 से 40 बस चलाई जा रही है जो प्रवासी मजदूरों को दूसरे जिलों से वापस लाने का कार्य कर रही है।तथा अंतर राज्य सीमा पर बने चेक नाका पर दो-दो वाहन पैदल श्रमिकों के लिए उनके गंतव्य तक पहुंचाने हेतु दिया गया है। लॉक डाउन लंगन मामले मैं अभी तक वाहनों से 7 लाख 17 हज़ार का फाइन भी प्राप्त किया गया है।
प्रेस कॉन्फ्रेंस में बताया गया कि स्वास्थ्य विभाग की ओर से क्वॉरेंटाइन सेंटर में प्रतिदिन मेडिकल टीम द्वारा क्वॉरेंटाइन अवधि बिता रहे लोगों की जांच स्क्रीनिंग की जाती है एवं उनके स्वास्थ्य की निगरानी रखी जाती है एवं ट्रू नेट मशीन के माध्यम से प्रतिदिन 25 से 30 लोगों की जांच की जा रही है।प्रेस कॉन्फ्रेंस में बताया गया कि बाहर से आ रहे प्रवासी मजदूरों को जॉब कार्ड मुहैया कराया जा रहा है तथा जिले में अब तक 8045 श्रमिकों को जॉब कार्ड उपलब्ध कराया गया है। इसके अलावे  प्रत्येक पंचायत में तीन योजना चालू करने की पहल झारखंड सरकार द्वारा की गई है अब जिले में पानी रोको अभियान पौधारोपण तथा हरित ग्राम योजना अंतर्गत प्रवासी मजदूरों को रोजगार दिया जाएगा।प्रेस ब्रीफ़िंग में उपायुक्त वरुण रंजन ने कहा बाहर से आ रहे प्रवसी श्रमिक स्व रोज़गार के अवसर भी जिले मे तलाश सकते हैं जिला प्रशासन उनकी स्व रोजगार में मदद करेगा एवं वैसे लोगों नके लिए रोजगार सेशन देगा।अंत मे उपायुक्त श्री रंजन ने मीडिया के माध्यम से लोगों से कहा कि अभी भी कोरोना वायरस का ख़तरा टला नहीं है इसलिये सतर्कता की और अधिक आवश्यकता है।सभी लोग दिशानोर्देश का अनुपालन करें एवं आवस्तकता अनुसार ही घरों से निकले।

क्या क्या खुलेगा अनलॉक 1.0 में:
उपायुक्त वरुण रंजन ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में मीडिया को मुख़ातिब करते हुए कहा कि जिन दुकानों को झरखण्ड सरकार ने खोलने का निर्देश दिया है साहिबगंज जिला उन निर्देशों का अनुपालन करेगा।
मोबाइल सर्विस सेंटर, घड़ी दुकानें, इलेक्ट्रानिक दुकानें, टीवी और कम्प्यूटर से संबंधित सभी दुकानें, कॉल सेंटर:
 भारी मशीनरी, जेनटेरटर, आइटी के हार्डवेयर पार्ट्स, नेटवर्किंग से संबंधित सामग्री, सॉफ्टेवयर और टेलीकॉम से संबंधित सामग्री.
ऑटोमोबाइल सेक्टर:
ज्वेलरी, चश्मे की दुकान, किचन से संबंधित सारी दुकानें, फर्नीचर, गैरेज, मोटर वर्कशॉप,:
ग्राहकों को बैठकर नहीं खोलने जाने के शर्त पर रेस्टॉरेंट खोले जायेंगे:
जिले के अंदर रिक्शा, टेंपो, ई-रिक्शा और नॉर्मल रिक्शा का परिचालन होगा:
धार्मिक स्थल रहेंगे बंद:
 कंटेनमेंट जोन के बाहर सब खुलेंगे, ऑटो रिक्शा चलेंगे:



साहिबगंज से देव आर्यन की रिपोर्ट।

No comments