पॉलिटेक्निक छात्रों की शुल्क माफी व प्लेसमेंट की मांग




कई बार विश्वविद्यालय एवं सरकार को पत्राचार एवं ट्वीट किया गया कोई जवाब नहीं जरूरत पड़ी तो होगा आन्दोलन , मोहम्मद शाह कमर



साहिबगंज :--झारखण्ड पॉलिटेक्निक छात्र संघ के प्रदेश सचिव मो शाह कमर मुर्शाद ने बताया कि संघ के पत्र लिखने के बाद सिर्फ प्रथम एवं पंचम सेमेस्टर के पुराने छात्रो को ही प्रमोट किया गया हैं और तृतीय सेमेस्टर का एग्जाम लेकर अब तक ना ही कॉपी का मुल्याकंन शुरू किया गया और ना ही इस पर विश्वविधालय(जेयूटी) ने कोई रणनीति ही स्पष्ट किया है। सत्र 2016-19,2017-20, 2018-21 का बैकलोग का कुछ स्पेशल एग्जाम का फॉर्म सितंबर-अक्टूबर 2019 में ही भरा जा चुका है। इसका भी प्रमोट व अन्य रणनीति स्पष्ट नही हैं। वर्तमान सत्र के प्रथम सेमेस्टर स्पोट काउंसलिंग वाले जिनका नामाकंन देर से हुआ हैं इन छात्रो को भी प्रमोट करने के लिए अब तक कार्यालय आदेश निर्गत नहीं हुआ है। कई बार विश्वविद्यालय एवं सरकार को पत्राचार एवं ट्वीट किया गया हैं लेकिन कोई जवाब नही मिला। उन्होंने बताया कि लॉक डाउन के बाद  सबसे पहले विश्वविद्यालय कार्यालय में ही अधिकारियो के साथ वार्तालाप किया जाएगा ।जरूरत पड़ी तो नियम के अनुसार आन्दोलन भी किया जायेगा। उन्होंने लॉक डाउन को देखते हुये सरकार को पत्र और ट्वीटर के माध्यम से निजी और अर्धसरकारी (काउनसिलीग के माध्सम से पेड सीट वाले छात्रों का भी) पॉलिटेक्निक में 30%-50%  शुल्क माफ करने,  प्रदेश के हर पॉलिटेक्निक में 100% प्लेसमेन्ट करने,  झारखण्ड प्रदेश के हर विभाग से कनिय अभियंता के पद से अन्य राज्य के तर्ज पर बीटेक मुक्त कराकर डिप्लोमा अनिवार्य करने की मांग विश्वविद्यालय एवं झारखण्ड सरकार से की है।



No comments