बेगुनाह गया जेल तो उठ जाएगा कानून से भरोसा।


देवघर जिले के देवीपुर थाना अंतर्गत भोजपुर गांव के जय किशोर शर्मा को 3 मई 2020 के दिन बगल के गांव में आपसी विवाद को लेकर मारपीट कर अधमरा कर दिया गया था।जिसकी इलाज के दौरान देवघर सदर अस्पताल में मौत हो गई थी। इस विवाद में एक और जहां मृतक के भाई अरविंद कुमार शर्मा देवीपुर थाना कांड संख्या 77/2020मैं अपने व अपने भाई पर जानलेवा हमला कर घायल कर देने के संबंध में जानकारी देते हुए बताया गया कि उसके गाय बगल के गांव पत्थर चपटी के सुरेश यादव एवं मोरेजह यादव के घर बंधी पड़ी थी। वअपने भाई जय किशोर शर्मा सहित अन्य कहीं सगे संबंधियों के साथ जब वहां पहुंचा तो उनके गाए छोड़ देने की बात कही इस पर सुरेश यादव ,बबलू यादव, राजेश यादव ,राहुल यादव ,बबलू यादव, मुन्ना राजू ,रोहित यादव ,सहित दर्जनों लोगों ने उन सभी ने धारदार हथियार से हमला कर दिया। गांव के कई लोगों के बीच बवाल के बाद वे सभी इलाज के लिए सदर अस्पताल के लिए आया। जहां उसकी भाई की मृत्यु होने की घोषणा चिकित्सक ने इलाज के दौरान बताएं। धार छानबीन एवं गांव के अन्य लोगों से पूछताछ पर मामला काफी संदेश पूर्वक बताया जा रहा है। गांव का कुछ लोगों का कहना है कि। दोनों गांव के बीच पहले से आपसी विवाद को लेकर आपस में मनमुटाव चल रहा था ।इसी बीच 3 मई के दिन पत्थल चपटी गांव के लोगों व भोजपुर गांव के लोगों ने क्रिकेट खेलना शुरू किया। इसी बीच वहां विवाद होने लगा मामला इतना बढ़ गया कि पत्थल चपटी व भोजपुर के लोगों के बीच मारपीट होना शुरू हो गया। घटना में जय किशोर बढ़िया बुरी तरह घायल हो गया। इस घटना के बाद में मृतक के भाई ने पुराने विवाद को लेकर कई ऐसे लोगों का नाम एफ आई आर में दर्ज करा दिया है।। जो उस दिन ना तो घटना स्थल पर था ना घर के बाहर ऐसे में सुनो की माने तो घटना में एक सिपाही का बेटा विकास मंडल जो उस वक्त घर पर किसी के साथ काम कर रहा था। उसे भी आरोपी बता दिया गया है। डीलर का कार्य करने वाला एक व्यक्ति जो मधुपुर में था उसे भी दोषी करार दिया गया है। ऐसे और भी कई बेगुनाह है। जो इस केस में बेवजह आरोपी हुए हैं। ऐसे में पुलिस अफसर सही तरीके से जांच करने में असमर्थ हुए। तो कई एक बेगुनाह जेल के सलाखों के पीछे रहेंगे और कानून पर से उनका भरोसा उठ जाएगा।

No comments